असम में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों के बीच द्वंद शुरू हो गया है। सभी दल एक दूसरे की कमियां निकालने और नीचा दिखाने में लगे हुए हैं। इसी कड़ी में असम में प्रमुख राजनीतिक दल भाजपा और कांग्रेस पार्टियों के नेता प्रचार प्रसार में लगे हुए हैं। साक्षात्कार में कांग्रेस के असम प्रभारी जितेंद्र सिंह ने बीजेपी तंज कसते हुए कहा कि असम में भाजपा के चेहरे कौन हैं? एक हैं मिस्टर फिक्सर, हिमंत बिस्वा सरमा।


जितेंद्र सिंह ने कहा कि हिमंत सरमा रिश्वत लेते हैं, लोगों को जेल में डालतें हैं। दूसरी ओर राज्य के सीएम, सर्बानंद सोनोवाल, जो कि एक डमी मुख्यमंत्री हैं। कांग्रेस के असम प्रभारी जितेंद्र सिंह ने असम में सत्तारूढ़ भाजपा की अगुवाई वाली सरकार पर चौतरफा हमला किया और राज्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा को एक फिक्सर और मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को एक डमी मुख्यमंत्री का करार दिया।

जितेंद्र सिंह ने आगे कहा कि 2015 में हिमंत बिस्वा सरमा के कांग्रेस से बाहर निकलने से असम में पार्टी की स्थापना पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। हिमंत तरुण गोगोई के एक विश्वसनीय सहयोगी थे। उन्होंने पार्टी पर अपनी पकड़ बनाई थी। दूसरी ओर जितेंद्र सिंह ने भाजपा पर तीखा हमला करते हुए कहा कि बीजेपी ने असम की पहचान और संस्कृति को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। ये चुनाव पूरी तरह से भाजपा द्वारा बर्बाद किए जा रहा है।

यही कारण है कि पूर्वोत्तर के लोगों को भाजपा की राजनीति पसंद नहीं है। भाजपा ने छोटे दलों या कांग्रेस को तोड़कर पूर्वोत्तर में अपनी सरकारें बनाई हैं। यह क्षेत्र के लिए एक नई प्रकार की राजनीति है, और पूर्वोत्तर के लोग इसे कतई पसंद नहीं करते हैं। जितेंद्र सिंह ने बताया कि असम ने पहले कभी भी फ्रीबी संस्कृति नहीं देखी थी। यह कई अन्य राज्यों में हो सकता है, लेकिन असम में नहीं।