प्लास्टिक प्रदूषण (plastic pollution) और वनों की कटाई के खिलाफ जनता के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए, बजली जिले के असम के पाठशाला के पांच युवाओं के एक समूह ने माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) के एवरेस्ट बेस कैंप तक लगभग 120 किलोमीटर की दूरी तय की। बता दें नीतीश दास, किशोर चौधरी, ध्रुबज्योति तालुकदार, दिनू तालुकदार और दिशांत काकाती ने पूरे 120 किलोमीटर पैदल चलकर तय किया। 

अपने जागरूकता मिशन (awareness mission) के बारे में बोलते हुए नीतीश दास ने कहा कि "वनों की कटाई और प्लास्टिक प्रदूषण के कारण मौसम दिन-ब-दिन बदल रहा है।" "इसलिए इन बातों को ध्यान में रखते हुए उन्होंने फैसला किया कि नए साल (New Year) का जश्न मनाने के बजाय, उन्हें एक कदम की ओर बढ़ना चाहिए ताकि जनता को जागरूक किया जा सके कि वायु प्रदूषण स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर चिंता का विषय है "। 

उन्होंने कहा कि "उन्होंने 2022 में 10 हजार पेड़ लगाने की भी योजना बनाई है। हम लोगों से भी अपील करते हैं कि वे हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए पर्यावरण (environment) को बचाने के लिए जितना हो सके पेड़ लगाएं।" किशोर चौधरी ने कहा कि 'अगर हम साथ काम करें तो कुछ बेहतर कर सकते हैं।