असम सरकार ने गुरूवार को अपनी उस एडवाइजरी को वापस ले लिया है, जिसमें उसने अपने राज्य के लोगों से कहा था कि वे मिज़ोरम न जाएं क्योंकि वहां उनकी जान को ख़तरा है। यह एडवाइजरी 29 जुलाई को जारी की गयी थी। असम सरकार के इस क़दम का मिज़ोरम ने स्वागत किया है। मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरामथंगा ने इसके लिए असम की सरकार को धन्यवाद दिया है। 

गुरूवार को ही मिज़ोरम की सरकार ने भी पहली बार असम के 6 पुलिस अफ़सरों के मारे जाने पर दुख व्यक्त किया है। 26 जुलाई को इन दोनों राज्यों के दो सीमाई जिलों के लोगों के बीच हिंसा भड़क गई थी, जिसमें जमकर गोलियां चली थीं। इसमें 7 लोगों की मौत हो गई थी और 45 लोग घायल हो गए थे। 

असम और मिज़ोरम इस बात पर भी सहमत हो गए हैं कि वे सीमाई इलाक़ों में केंद्र सरकार के द्वारा तनाव को दूर करने के लिए उठाए जा रहे क़दमों को आगे बढ़ाएंगे और सीमा विवाद का हल निकालने की कोशिश करेंगे। इस बात पर भी सहमति बन गई है कि केंद्रीय सुरक्षा बल सीमाई इलाक़ों में शांति बनाए रखने के लिए एक न्यूट्रल बॉडी के रूप में काम करेंगे। 

माना जा सकता है कि दोनों राज्यों के बीच चल रहा सीमा विवाद अब सुलझने की दिशा में बढ़ रहा है। विवाद भड़कने के बाद दोनों ही राज्यों के  मुख्यमंत्रियों की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ बात हुई थी। 

इससे पहले 2 अगस्त को ज़ोरामथंगा ने मिज़ोरम पुलिस की ओर से दर्ज की गई एक एफ़आईआर को वापस लेने के निर्देश दिए थे। ज़ोरामथंगा ने कहा था कि दोनों राज्यों के बीच जारी सीमा विवाद को ख़त्म करने और किसी समाधान तक पहुंचने के लिए ज़रूरी अनुकूल माहौल को बनाने के लिए इस एफ़आईआर को वापस लिया जा रहा है। 

मिज़ोरम की पुलिस ने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और छह शीर्ष पुलिस अफ़सरों के ख़िलाफ़ यह एफ़आईआर दर्ज की थी। इस एफ़आईआर में असम सरकार के 200 अज्ञात पुलिसकर्मियों का भी नाम था। 

यह एफ़आईआर मिज़ोरम के कोलासिब जिले के वैरेंगटे पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी। मिज़ोरम का कोलासिब जिला असम के कछार जिले से लगता है। 

मिज़ोरम की असम के साथ 123 किलोमीटर, त्रिपुरा के साथ 109 किलोमीटर और मणिपुर के साथ 95 किलोमीटर की सीमाएं हैं। 1995 के बाद से मिज़ोरम और असम सरकारों के अधिकारियों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने के लिए कई बैठकें हो चुकी हैं। मिज़ोरम के तीन ज़िले - कोलासिब, आइजोल और ममित - दक्षिणी असम के कछार, हैलाकांडी और करीमगंज ज़िलों के साथ 123 किमी की सीमा साझा करते हैं।

मिज़ोरम और असम की सीमा पर दोनों राज्यों के लोगों के बीच अक़सर झड़प होती है और विवाद होता रहता है।