राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान जारी है। इस बीच विपक्ष ने सत्ताधारी दल के तीन विधायकों पर चुनाव नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए उनके वोट रद्द करने की मांग की है। रिटर्निंग ऑफिसर को दायर तीन अलग-अलग शिकायतों में विपक्ष ने भाजपा के हितेंद्र नाथ गोस्वामी, गणेश कुमार लिंबू और बीपीएफ के दुर्गा दास बोरो के वोट रद्द करने की मांग की है। 

ये भी पढ़ेंः राज्यसभा चुनाव आज : AIUDF ने राज्यसभा चुनाव के लिए अपने विधायकों को थ्री लाइन व्हिप जारी किया


उन पर चुनाव आचरण नियम 1961 के नियम 39AA, 42 और 84 के प्रावधानों का सार्वजनिक रूप से उल्लंघन करते हुए मतपत्र दिखाने का आरोप है। इन आरोपों के बाद कहा जा रहा है कि उम्मीदवारों के वोट रद्द हो सकते हैं। उल्लेखनीय है कि असम राज्य से राज्य सभा के द्विवार्षिक चुनाव के लिए आज मतदान हो रहा है।

ये भी पढ़ेंः पति ने पत्नी की कुल्हाड़ी मारकर कर दी हत्या , सबूत मिटाने की कोशिश में पकड़ा गया


वहीं दूसरी तरफ असम में राज्यसभा की दो सीटों पर चुनाव की पूर्व संध्या पर कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष ने बुधवार को कहा था कि उसका संयुक्त उम्मीदवार आराम से जीत जाएगा। एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया ने कहा, हम यह दोहराना चाहते हैं कि हमारे पास 43 विधायकों का पूर्ण समर्थन है और हमारा उम्मीदवार विजयी होगा। 126 सदस्यीय राज्य विधानसभा में कांग्रेस के 27, एआईयूडीएफ के 15 और सीपीआई (एम) के एक विधायक हैं जबकि एक निर्दलीय विधायक (रायजर दल का) है। सैकिया ने दावा किया कि कांग्रेस के 26 विधायकों के अलावा माकपा का अकेला विधायक और रायजोर दल का एक विधायक भी बोरा को वोट देगा। एआईयूडीएफ ने भी विपक्षी दलों के संयुक्त उम्मीदवार के रूप में बोरा को अपना समर्थन दिया है।