असम में राम जन्मभूमि मंदिर के भूमिपूजन के जश्न के दौरान दो समुदाय आमने-सामने आ गए। यह मामला सोनितपुर का है जहां दो थानाक्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया। कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में गुरुवार को सेना के जवानों ने फ्लैग मार्च किया।

सोनितपुर के अधिकारियों का कहना है कि बुधवार को राम जन्मभूमि मंदिर के भूमिपूजन के मौके पर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने बाइक रैली निकाली थी। इस दौरान दो समुदाय के बीच कहासुनी हुई। देखते-देखते ही कहासुनी बवाल में बदल गई। इसके बाद दो थानाक्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है।
सोनितपुर के अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) नुमल महाता ने कहा कि जिले के थेलामारा और ढेकियाजुली पुलिस थानों के अधिकार क्षेत्र में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगाया गया है। सेना के जवानों ने जिला प्रशासन के अनुरोध पर फ्लैग मार्च किया। स्थिति अभी कंट्रोल में है। इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है।
एएसपी नुमल महाता का कहना कि दोनों पक्ष के करीब 10 लोग घायल हुए हैं। वहीं, बजरंग दल का कहना है कि उसके कम से कम 12 कार्यकर्ता घायल हैं। बवाल की सूचना पाकर असम के एडीजी (कानून व्यवस्था) ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह को कर्फ्यूग्रस्त इलाकों का दौरा करने का निर्देश दिया गया है। वह सोनितपुर पहुंच रहे हैं।
सोनितपुर की पुलिस अधीक्षक मुग्धाज्योति देव महंता भी बुधवार शाम से ही घटनास्थल पर कैंप कर रही हैं। बवाल की शुरुआत भोरा सिंगोरी में एक मंदिर में जोर-जोर से संगीत बजाने और नारे लगाने के बाद हुई। इस दौरान दूसरे पक्ष ने आपत्ति जताई, जिस बाइक सवार कार्यकर्ता भड़क उठे।