असम के जल संसाधन विभाग के एक सहायक कार्यकारी अभियंता समेत छह कर्मचारियों को कथित तौर पर ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई।

ये भी पढ़ेंः हैदराबाद में असम CM हिमंत बिस्वा सरमा की सुरक्षा में बड़ी चूक, शख्स ने स्टेज पर चढ़कर छीना माइक


आदेश के अनुसार उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की प्रारंभिक जांच के बाद उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था। थौरा विधानसभा क्षेत्र में डेमो लाईबील तटबंध के मरम्मत कार्य में भ्रष्टाचार का आरोप लगने के बाद जल संसाधन मंत्री पीयूष हजारिका ने जांच के आदेश दिए थे। कुछ दिनों पहले जारी एक वीडियो में मरम्मत कार्य के लिए कथित तौर पर इस्तेमाल की जा रही घटिया सामग्री को दिखाया गया था। हजारिका ने वीडियो देखने के बाद विभागीय जांच के आदेश दिए थे। 

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस ने ही किए थे भारत के टुकड़े, राहुल गांधी को पाकिस्तान से शुरू करनी चाहिए भारत जोड़ो यात्रा, हिमंता का तंज


विज्ञप्ति में कहा गया है कि जांच की प्रारंभिक रिपोर्ट के आधार पर छह अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। इसमें कहा गया है कि डेमो उपमंडल के एक सहायक कार्यकारी अभियंता, शिवसागर के एक कनिष्ठ अभियंता समेत चार अन्य को निलंबित कर दिया गया है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि जिस ठेकेदार को तटबंध की मरम्मत का कार्य सौंपा गया था, उसे विभाग द्वारा आदेशानुसार ब्लैक लिस्ट में डाला जा रहा है।