मिजोरम स्थित असम राइफल्स (Assam Rifles) के कर्मियों ने मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में आतंकवादियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में मारे गए 46 असम राइफल्स के पांच सैनिकों के सम्मान में एक स्मारक सेवा का आयोजन किया।
इस कार्यक्रम में मिजोरम के राज्यपाल हरि बाबू कंभमपति (governor Hari Babu Kambhampati), DGP SBK सिंह और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) सेक्टर मुख्यालय के उप महानिरीक्षक शामिल थे। आइजोल में आयोजित संक्षिप्त समारोह के दौरान शहीद हुए पांच सैनिकों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।
कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी (41), उनकी पत्नी अनुजा त्रिपाठी (36) और उनके 6 वर्षीय बेटे अबीर त्रिपाठी सहित 46 असम राइफल्स के कम से कम पांच कर्मी नवंबर में चुराचांदपुर जिले के सेहकन गांव के पास एक घात में मारे गए थे।
मणिपुर स्थित अलगाववादी समूह पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) और मणिपुर नागा पीपुल्स फ्रंट (MNPF) ने संयुक्त रूप से घात लगाकर हमला किया। घटना तब हुई जब त्रिपाठी का काफिला बेहियांग कोय चौकी का दौरा कर चुराचांदपुर स्थित अपने अड्डे पर लौट रहा था।
असम राइफल्स (Assam Rifles) के जवानों द्वारा जवाबी हमला शुरू करने से पहले आतंकवादियों द्वारा IED का इस्तेमाल किया गया था। हमले में मारे गए अन्य चार कर्मियों में राइफलमैन सुमन स्वारगियरी, राइफलमैन खतनेल कोन्याक, राइफलमैन आरपी मीणा और राइफलमैन श्यामल दास थे।