असम के लखीमपुर जिले में पुलिस हिरासत से भागे बलात्कार और हत्या के आरोपी की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। राजू बरुआ उर्फ गेरजाई घिलमारा थाना क्षेत्र के किलाकिली गांव में एक नाले के पास छिपा हुआ था, तभी कुछ स्थानीय ग्रामीणों ने उसे देखा। पुलिस के हवाले करने से पहले ग्रामीणों ने उसे तुरंत पकड़ लिया और बेरहमी से पीटा।

ये भी पढ़ेंः 21 और 28 अगस्त को 4 घंटे के लिए बंद रहेगा मोबाइल इंटरनेट


लखीमपुर के पुलिस अधीक्षक बीएम राजखोवा ने कहा कि हमें सुबह घटना के बारे में पता चला। जब तक पुलिस की टीम मौके पर पहुंची तब तक आरोपी गंभीर रूप से घायल और बेहोश हो चुका था। उसे स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसने दम तोड़ दिया। पुलिस ने बताया कि आरोपी पर डकैती, बलात्कार और हत्या के एक दर्जन से अधिक मामले दर्ज थे। स्थानीय लोग उसकी आपराधिक गतिविधियों के बारे में जानते हैं।

ये भी पढ़ेंः असम: वन अधिकारियों ने गैंडे का सींग बेचने के आरोप में तीन को किया गिरफ्तार


वहीं पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया है और हमले में शामिल लोगों की पहचान करने की कोशिश कर रही है। हालांकि अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। बता दें कि आरोपी सहित दो अन्य अपराधी ढकुआखाना की एक अदालत से पुलिस हिरासत से भाग गए, जहां उन्हें सुनवाई के लिए ले जाया गया। इनमें से एक को पकड़ लिया गया, जबकि तीसरे की तलाश की जा रही है। बरुआ पिछले साल सितंबर में पुलिस के साथ मुठभेड़ में घायल हो गया था और इस साल जनवरी में एक अस्पताल के एक कोविड -19 वार्ड से भाग गया था।