असम में एक प्रोफेसर को नाबालिग छात्रा से कथित रूप से दुष्कर्म और आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। चिरांग जिले के बेंगटोल कॉलेज के सहायक प्रोफेसर प्रवीण नारजारी के तुकराझार आवास पर 14 वर्षीय छात्रा का शव मिला। जिसके बाद सनसनी फैल गई । सूचना पर पहुंची पुलिस ने मृतक का अंतिम संस्कार करने से रोक दिया। पुलिस ने कहा कि नाबालिग लड़की पिछले एक साल से प्रोफेसर नारजारी के घर में रहकर पढ़ाई कर रही थी।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सोमवार की रात जानकारी मिली कि पीड़िता ने अपने दोस्त को एक व्हाट्सएप मैसेज भेजा था, जिसमें बताया कि उसके साथ प्रोफेसर ने दुष्कर्म किया और आत्महत्या के लिए उकसाया। पीड़िता ने मैसेज में लिखा कि वह अपनी जिंदगी खत्म करना चाहती है। मैसेज के बाद पीड़िता ने सुसाइड कर लिया। फिलहाल पीड़िता के परिजनों को पुलिस ने सूचना दे दी है। पुलिस ने आरोपी प्रोफेसर को महिला कार्यकारी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया। मजिस्ट्रेट ने आरोपी को तीन दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही इस मामले को खुलासा किया जाएगा।

पिछले महीने भी ऐसा ही एक मामला सामने आया था। नगांव जिले के राहा में एक 12 वर्षीय नौकरानी का शव मिला था। पिता-पुत्र पर नाबालिग को जिंदा जलाने का आरोप लगा था। पुलिस ने दोनों को कोर्ट में पेश किया था, जिसके बाद दोनों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। बता दें कि असम में रेप के बाद जलाने के कई मामले सामने आ चुके हैं।