अगरतला। असम पुलिस की पांच सदस्यीय टीम रविवार को जमात-उल-मुजाहिदीन बंगलादेश (जेएमबी) के तीन संदिग्ध आतंकवादियों को लेकर यहां से गुवाहाटी के लिए रवाना हुई। इन आतंकवादियों को पश्चिम त्रिपुरा में सिपाहीजाला जिले के सीमावर्ती गांव सोनमुरा से नौ अप्रैल को गिरफ्तार किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, सोनमुरा के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने शनिवार को गिरफ्तार व्यक्तियों की देश-विरोधी गतिविधियों में कथित संलिप्तता के आरोपों पर असम पुलिस की केस डायरी और मौजूद सबूतों की जांच करने के बाद असम पुलिस को तीनों के लिए ट्रांजिट रिमांड की अनुमति दे दी। 

यह भी पढ़े : Love Horoscope 17 April : इन राशिवालों के लिए प्यार और रिलेशनशिप में आगे बढ़ने का समय, जानिए राशिफल

त्रिपुरा पुलिस ने खुफिया जानकारी के आधार पर जतरापुर थाना क्षेत्र में आने वाले खैदयाखाला गांव के एक स्थानीय मस्जिद के इमाम इमरान हुसैन (24), एक शिक्षक अबुल कासिम (33), और एक किसान हामिद अली (38) को तीन अप्रैल को हिरासत में लिया था। बाद में उन्हें राष्ट्र विरोधी गतिविधियों सहित विभिन्न गैर जमानती धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस के दावों के आधार पर अदालत ने आरोपियों को पहले तीन दिन के लिए जेल भेज दिया था, लेकिन पुलिस जेएमबी से उनके ताल्लुक स्थापित करने संबंधी साक्ष्य पेश करने तथा उन पर लगायी गयी भारतीय दंड संहिता की धारा 120(बी), 121, 124(ए) और गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) की धारा 13(2), 18, 18(बी), 38 और 39 को सही साबित करने में असफल रही। 

यह भी पढ़े : Weekly Horoscope: वृषभ व कन्या समेत कई राशि वालों को आर्थिक मोर्चे पर जबरदस्त लाभ होगा

नतीजतन अदालत ने तीनों आरोपियों को आठ अप्रैल को जमानत देते हुए, उन्हें हर दूसरे दिन जतरापुर पुलिस थाने में हाजिरी लगाने के लिए कहा था। उसके अगले दिन असम पुलिस ने उन्हें बोंगाईगांव के जोगीघोपा थाने में दर्ज राजद्रोह के एक मामले में गिरफ्तार कर लिया। उन्हें असम में ट्रांजिट रिमांड की मांग करते हुए अदालत के सामने पेश किया गया था। आरोपियों के वकील ने अदालत में दावा किया कि उनका 'धार्मिक आधार पर उत्पीडऩ' किया जा रहा था, जिसके बाद अदालत ने पुलिस को सहमति ना देते हुए 16 अप्रैल को केस डायरी और उनके दावे के सबूत पेश करने के लिए तलब किया था। 

तदनुसार, तीनों को शनिवार को अदालत के समक्ष पेश किया गया और दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने असम पुलिस की ट्रांजिट रिमांड की अपील स्वीकार कर ली। अदालत ने असम पुलिस को तीनों संदिग्धों को सोमवार को बोंगाईगांव जिले में अभयपुर उपमंडल न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने का निर्देश दिया।