मानव तस्करों द्वारा अगवा कर बेची गई नाबालिग के मामले में बुधवार को असम पुलिस सिरसा पहुंची। बाल कल्याण समिति ने नाबालिग को उसकी मां से मिलवाया और बाद में असम पुलिस के सुपुर्द कर दिया। नाबालिग को अब असम की बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया जाएगा, जो आगामी कार्रवाई करेगी। असम पुलिस की टीम एएसआइ अमर सिंह कुंडू के नेतृत्व में सिरसा आई। टीम के साथ नाबालिग की मां व एक महिला सिपाही भी थी। वर्णनीय है कि बीती आठ अगस्त को बाल संरक्षण समिति ने डिग क्षेत्र के गांव जोधकां निवासी जमींदार के पास से एक नाबालिग को छुड़वाया था। नाबालिग छह महीने से उक्त जमींदार की कैद में रही। नाबालिग को छुड़वाने के लिए असम बाल संरक्षण इकाई ने सिरसा इकाई को पत्र लिखा था। नाबालिग पांच माह की गर्भवती है। 

मामले की जानकारी देते हुए सिरसा बाल कल्याण समिति की चेयरपर्सन अनिता वर्मा ने बताया कि नाबालिग बच्ची को लेने के लिए बुधवार सुबह असम पुलिस सिरसा पहुंची। अपनी मां से मिलकर नाबालिगा भावुक हो गई। चेयरपर्सन ने बताया कि असम पुलिस के अनुसार असम में सक्रिय मानव तस्करी करने वाले गिरोह के जिस सदस्य ने नाबालिग को अगवा किया था वह अभी फरार है। वहीं असम पुलिस ने जोधकां निवासी जमींदार के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है, जिसने नाबालिग को खरीदा और उसके साथ जबरन दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपित जमींदार की गिरफ्तारी के लिए डिग पुलिस का सहयोग मांगा है। 

असम के शहर बंगाईगांव से बीती 16 फरवरी को एक नाबालिग लापता हो गई थी। 17 फरवरी को परिजनों ने बंगाईगांव थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। इसके बाद असम पुलिस जांच में जुट गई। असम पुलिस को संदेह हो चुका था कि नाबालिग को मानव तस्करी करने वाले गिरोह ने अगवा किया है। परंतु पुलिस को सफलता नहीं मिली। कुछ दिन पहले नाबालिग की मां के मोबाइल पर एक कॉल आई, जिसमें उसकी नाबालिग बेटी अपनी आप बीती बयां की। मां ने पुलिस व असम बाल संरक्षण इकाई को जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस ने मोबाइल नंबरों के आधार पर जानकारी जुटाई कि बच्ची सिरसा के गांव जोधकां में एक व्यक्ति की कैद में है। इसके बाद असम बाल संरक्षण इकाई ने सिरसा इकाई से संपर्क किया। 

नाबालिग ने बताया है कि बीती 16 फरवरी को असम से एक व्यक्ति ने उसका अगवा कर लिया। उस व्यक्ति ने उसे अपनी कैद में रखा और जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे सिरसा के गांव जोधकां निवासी जमींदार को बेच दिया। जमीदार ने उसे अपने घर कै द में रखा और उसके साथ जबरन दुष्कर्म किया। जिससे वह गर्भवती हो गई। नाबालिग का कहना है कि कुछ दिन पहले उसके हाथ में जमीदार का मोबाइल लग गया। जिससे उसकी मां को कॉल की और बताया कि वो सिरसा जिले में एक व्यक्ति की कैद में है। उक्त व्यक्ति उसके साथ मारपीट करता है और जबरन दुष्कर्म करता है।