असम में कांग्रेस के प्रमुख रिपुन बोरा ने कहा कि AIUDF और अन्य महागठबंधन घटकों को बयान देते हुए संयम रखने के लिए कहा है। कांग्रेस ने महागठबंधन के घटक दलों को उकसाने वाले बयान देने से परहेज करने को कहा है, जिससे अन्य समुदायों की भावनाओं को ठेस पहुंचे। आगामी विधानसभा चुनाव 2021 की तैयारियों में कांग्रेस जुट गई है। 7 फरवरी को फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी असम का दौरा करेंगे और रैलियों को संबोधित करेंगे। 


कांग्रेस के लोकसभा सांसद प्रद्युत बोरदोलोई ने कहा कि यह AIUDF सुप्रीमो और लोकसभा सांसद बदरुद्दीन अजमल की टिप्पणी के बाद पिछले हफ्ते एक सार्वजनिक बैठक के दौरान उन्होंने कहा था कि अगर देश में 2024 रास चुनावों में भाजपा ने सत्ता बरकरार रखी तो 3 हजार से अधिक मस्जिदों को ध्वस्त कर दिया जाएगा। हम किसी भी सांप्रदायिक बयान को बर्दाश्त नहीं करेंगे। असम की यात्रा के दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा अजमल की टिप्पणी की भारी आलोचना की गई।


गृहमंत्री अमित शाह ने असम में AIUDF के साथ गठबंधन के लिए कांग्रेस की खिंचाई की थी। राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले असम में भाजपा और विपक्षी दलों के बीच वाकयुद्ध तेज हो गया है। इस वर्ष अप्रैल-मई में 126 सदस्यीय असम विधानसभा के चुनाव होने की संभावना है। कांग्रेस ने AIUDF, CPI, CPI-M, CPI-ML और आंचलिक गण मोर्चा के साथ ग्रैंड अलायंस बनाया है ताकी आगामी असम विधानसभा चुनाव में बीजेपी के सत्ता से हटाया जा सके।