असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने कहा कि राज्य सरकार जून में बाढ़ का मौसम शुरू होने से पहले तटबंधों के निर्माण का काम इस माह के आखिर तक पूरा कर लेने के लिए कदम उठा रही है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ब्रह्मपुत्र और बराक एवं उनकी 50 से अधिक सहायक नदियों में हर साल मानसून के दौरान बाढ़ आती है। 

सोनोवाल ने काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (केएनपी) में तटबंध निर्माण के कार्य का निरीक्षण करने के बाद कहा, इस साल कोविड-19 के चलते निर्माण कार्य समय से शुरू नहीं हो सका लेकिन हमे यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं कि ये परियोजनाएं समय से पूरी हो जाएं ताकि लोग और उनके खेतों को बचाया जा सके।’’ 

एशियाई विकास बैंक से वित्तपोषित इस तटबंध परियोजना में 23.38 किलोमीटर लंबा और साढ़े सात मीटर चौड़ा तटबंध बनाया जाएगा जो केएनपी को बाढ़ और भूमि कटाव से बचाएगा। सोनोवाल ने कहा कि राज्य सरकार ने बाढ़ के दौरान जंगली जानवरों को बचाने को शीर्ष प्राथमिकता दी है। इस बीच मुख्य सचिव कुमार संजय कृष्ण ने विभागों के प्रमुखों के साथ राज्यस्तरीय तैयारी की समीक्षा के लिए बुधवार को एक बैठक की। उन्होंने बाढ़ संभावित क्षेत्रों की वर्तमान स्थिति और उसका असर कम करने के लिए संबंधित विभागों द्वारा उठाये गये कदमों का जायजा लिया।