असम सरकार ने बड़ा ऐलान किया है कि अगले साल 2 चरणों में 46,000 विद्यालयों का मूल्यांकन करने के लिए एक व्यापक अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान का नाम ‘गुणोत्सव’ रखा गया है। राज्य के इन विद्यालयों में 42 लाख से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ते हैं।

बताया गया है कि रविवार को मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा की अध्यक्षता में आयोजित एक बैठक में इस अभ्यास के लिए विस्तृत रूपरेखा और दो चरणों में होने वाले इस मूल्यांकन के मानदंडों पर चर्चा हुई। बयान में बताया गया कि पहले चरण का आयोजन पांच-सात अप्रैल से और दूसरे चरण का आयोजन 20-22 अप्रैल से किया जाएगा।

‘गुणोत्सव’ का मकसद प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है। वहीं, एक अन्य आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया कि मुख्यमंत्री ने रविवार को श्रीमंत शंकरदेव स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय की पांचवीं आम परिषद की बैठक में हिस्सा लिया। वह इस विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं।