असम परिवहन विभाग ने पुरानी गाड़ियों को पेंट कर उन्हें बेचने के लिए देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी के डीलर को जारी कारोबारी लाइसेंस रद्द कर दिया है। अधिकारियों ने मंगलवार को इस बारे में बताया। कामरूप मेट्रोपोलिटन के जिला परिवहन अधिकारी (डीटीओ) गौतम दास ने बताया कि एक व्यक्ति ने ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी के लिए डीलर के खिलाफ उनके कार्यालय और परिवहन आयुक्त कार्यालय में शिकायत दर्ज करायी थी। 

दास ने बताया, ‘आयुक्त आदिल खान के निर्देश के मुताबिक परिवहन विभाग से वाहन निरीक्षकों और अन्य अधिकारियों की एक टीम ने गुवाहाटी में पोद्दार कार वर्ल्ड के खानपाड़ा शोरूम पर छापेमारी की। छापे के दौरान हमें कई विसंगतियां मिली।’ उन्होंने बताया कि निरीक्षकों ने एक वाहन की भी पड़ताल की जिसकी बिक्री पेंट करके, नए वाहन के तौर पर की गयी थी। जांच में पाया गया कि वह पुरानी कार थी। 

दास ने कहा, ‘पूछताछ के दौरान पोद्दार कार वर्ल्ड के अधिकारियों ने स्वीकार किया था कार पुरानी थी। साथ ही उन्होंने दावा किया कि अनजाने में इसकी बिक्री की गयी। उनके तर्क वाजिब नहीं थे। हमने तुरंत प्रभाव से कारोबारी लाइसेंस और कारोबार प्रमाणपत्र को रद्द कर दिया।’ परिवहन विभाग ने तकनीकी जांच शुरू की है और जांच पूरी होने तक मारुति सुजुकी शोरूम के वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी है। 

मारुति सुजुकी इंडिया के प्रवक्ता को घटनाक्रम के बारे में एक ई-मेल किया गया लेकिन उनका जवाब नहीं मिला है। दास ने आगे कहा कि असम के बारपेटा में आवश्यक अनुमति के बिना वाहनों की बिक्री करने के लिए 2015-16 में डीलर के एक और शोरूम को सील कर दिया गया था।