असम सरकार ने लॉकडाउन के कारण फंसे हुए परिवार के सदस्यों को घर लौटने के लिए एक खास कदम उठाया है। मदद करने के लिए 28 अप्रैल से तीन दिनों के लिए 28,000 से अधिक लोगों को दो-तरफा अंतरा-जिला की यात्रा कर सकते हैं। वैसे तो फंसे लोगों को अपने स्वयं के वाहनों का उपयोग करना होगा। सरकार वाहनों की व्यवस्था नहीं करेगी। राज्य सरकार द्वारा जारी जानाकारी के तहत 47,000 से अधिक लोग अपने गंतव्यों की यात्रा कर चुके हैं।


स्वास्थ्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने इसी जानकारी देते हुए बताया कि 25 से 27 मार्च के बीच अंतर-जिला यात्रा के लिए 28,000 से अधिक लोगों के आवेदनों को खारिज कर दिया गया था। अभी हालात नियंत्रण में हैं तो इन लोगों को 28, 29 और 30 मार्च को दो-तरफा यात्रा की अनुमति देने का हमने फैसला किया है। अधिकारियों से अनुमति प्राप्त करने के बाद अपने स्वयं के वाहनों का उपयोग कर 25,000 से अधिक लोग अपने अपने घर पहुँच गए हैं।


जानकारी के लिए बता दें कि असम के परिवहन मंत्री चंद्र मोहन पटोवरी ने बताया कि 2 दिन में 12,000 से अधिक लोगों को 800 असम राज्य परिवहन निगम (एएसटीसी) बसों का उपयोग करके घर पहुंचाया जा रहा है। जिसमें 18 जिलों में छोटी दूरी की यात्रा के लिए लगभग 5,000 पंजीकृत यात्रियों की यात्रा की सुविधा के लिए 323 बसें तैनात की थीं।