गुवाहाटी। असम सरकार (Assam Government) ने इस शैक्षणिक वर्ष से पड़ोसी देश भूटान (Neighboring Countries Bhutan) के छात्रों के लिए एमबीबीएस (MBBS) पाठ्यक्रम में दो सीटें आवंटित की हैं। एक शीर्ष अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।

भूटान में भारत की राजदूत रुचिरा कंबोज ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिये इस बात की जानकारी दी। उन्होंने लिखा, ‘‘असम सरकार (assam government) ने इस शैक्षणिक वर्ष से भूटान के लिए एमबीबीएस की दो सीटें आवंटित की हैं, ताकि दोनों देशों के बीच जीवंत जन संबंधों को बढ़ावा दिया जा सके।’’

असम सरकार (Assam government) के एक अधिकारी ने कहा कि सीटों के आरक्षण के लिए अनुरोध गुवाहाटी में भूटान के महावाणिज्य दूत फुब शेरिंग द्वारा मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Chief Minister Himanta Biswa Sarma) के समक्ष कुछ माह पहले रखा गया था।

अधिकारी ने कहा, “वाणिज्य दूत ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी और एमबीबीएस (MBBS) सीटों के आवंटन के लिए अनुरोध किया था। सरमा (sarma) ने शेरिंग को लिखित रूप में अनुरोध करने के लिए कहा था।’’ उन्होंने कहा कि महावाणिज्य दूत ने मामले में आगे प्रयास जारी रखा और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर अनुरोध किया, जिसे सरमा ने आगे बढ़ाया।

इस मामले की जानकारी रखने वाले एक अन्य अधिकारी ने कहा कि असम सरकार ने लगभग एक पखवाड़े पहले निर्णय लिया था कि पूर्ण छात्रवृत्ति के साथ एमबीबीएस की दो सीटें भूटान के उम्मीदवारों को देने पर विचार किया जा सकता है, लेकिन यह निर्णय केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार मामलों के मंत्रालय और विदेश मंत्रालय (Union Ministry of Health and Family Affairs and Ministry of External Affairs) से मंजूरी पर निर्भर करेगा।

उन्होंने कहा, ‘‘असम सरकार (Assam government) के प्रस्ताव के अनुसार, दोनों सीटों को राज्य के मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों के केंद्रीय पूल से आवंटित किया जाना है।’’ इस बीच शेरिंग ने शुक्रवार शाम यहां सरमा से मुलाकात की थी।

बैठक के बारे में ट्विटर पर सरमा ने लिखा, ‘‘गुवाहाटी में भूटान की महावाणिज्य दूत फुब शेरिंग से मिलकर खुशी हुई। हम असम और भूटान के बीच सौहार्द बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।” उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के बीच लंबे समय से चले आ रहे द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए आपसी हित के कई मुद्दों पर चर्चा की गई।