पूर्वोत्तर राज्य असम में जंगली हाथियों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है। इस बीच बक्सा जिले में जंगली हाथियों के झुंड के हमले में एक की मौत हो गई, वहीं 5 अन्य घायल हो गए। मृतक की पहचान रविंद्र बोरो के रूप में हुई है। पांच घायल व्यक्तियों में धनपति बोरो, अनिल दैमारी, परेश बोरो, थेंगोना मुशहरी और सुलेंद्र बोरो हैं।

ये भी पढ़ेंः गुवाहाटी HC ने TN सरकार से असम टीम को हाथी जॉयमाला का निरीक्षण करने की अनुमति देने को कहा


ग्रामीणों ने बताया कि पास के जंगल से जंगली हाथियों का झुंड भोजन की तलाश करते-करते इलाके में घुस आया। स्थानीय लोगों ने उन्हें डराने की कोशिश की ताकि वे जंगल में लौट आएं लेकिन उन्होंने उन पर हमला कर दिया। हाथियों के हमले से रविंद्र बोरो भी बुरी तरह घायल हो गया। उन्हें अन्य पांच घायलों के साथ रंगिया के नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने रविंद्र को मृत घोषित कर दिया। जबकि, दाईमरी की हालत नाजुक बताई जा रही है।

ये भी पढ़ेंः भारी बारिश से बेहाल हुए असम को गृहमंत्री अमित शाह ने दी बड़ी राहत, जारी किए इतने करोड़ रुपए


स्थानीय लोगों ने दावा किया कि, पहले कुछ अन्य लोगों पर भी जंगली हाथियों ने हमला किया था। साथ ही ग्रामीणों ने वन विभाग पर इन घटनाओं को रोकने के लिए लापरवाही का आरोप लगाया। ग्रामीणों ने यह भी शिकायत की कि जंगली हाथियों द्वारा फसलों को भी नियमित रूप से नष्ट कर दिया जाता है। उन्होंने राज्य सरकार से इस पर तत्काल संज्ञान लेने की मांग की है। गांव के एक निवासी ने कहा, यह पहली बार नहीं है कि इस गांव में एक हाथी ने एक आदमी को मार डाला है, पहले भी हाथी के हमलों से कई लोग मारे गए थे। असम में हाथी-मानव संघर्ष लगातार बढ़ रहा है। पर्यावरणविदों ने पहले ही चेतावनी दी है कि जब तक वन क्षेत्रों को संरक्षित नहीं किया जाता है तब तक ऐसे संघर्ष और भी बढ़ते रहेंगे।