सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी शुक्रवार को एक दिन के असम दौरे पर पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने असम में एक बार फिर बीजेपी की जीत का दावा किया। उन्होंने कहा कि अब असम की भुखमरी दूर हो रही है, लोगों ने सर्बानंद सोनोवाल और नरेंद्र मोदी जी के काम को देखा है उसी के आधार पर मैं कह सकता हूं कि हमारी सरकार वापस आएगी।

नितिन गडकरी ने कहा, "असम में जो 50 साल में नहीं हुआ, वो काम हमने किया है। बांग्लादेश तक जलमार्ग बनाया है। हमने असम के विकास के लिए रोड नेटवर्क बहुत बढ़िया किया है। जितने ब्रिज अभी तक नहीं बने थे, हमने ब्रह्मपुत्र पर बनाए हैं। रेल रोड नेटवर्क समेत बहुत सारा काम हुआ है।"

केंद्रीय मंत्री ने कहा, "अब असम की भुखमरी दूर हो रही है, लोगों ने सर्बानंद सोनोवाल और नरेंद्र मोदी जी के काम को देखा है उसी के आधार पर मैं कह सकता हूं कि हमारी सरकार वापस आएगी।"

CAA को लेकर उन्होंने कहा हम जाति, पंथ, धर्म के आधार पर चुनाव नहीं लड़ते हैं। ना हम ऐसा मानते हैं। जो लोग बदरुद्दीन के साथ चुनाव में एलाइंस करके चुनाव लड़ रहे हैं, वो लोग क्या बोलेंगे। हमने जो काम किए, जो 50 साल में नहीं हुए, उसके आधार पर चुनाव लड़ रहे हैं।"

नागरिकता कानून पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जो हमारे देश के नागरिक नहीं है? क्या उनके लिए कानून नहीं बनना चाहिए। देश हित जो विदेशी नागरिक हैं। वो हमारे देश के नागरिक नहीं है वह देश हित में नहीं है। क्या बांग्लादेश में भारत के लोग नागरिक बन सकते हैं।

वहीं NRC के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देशहित में इस पर चर्चा होनी चाहिए और फिर उसे साफ करना चाहिए। हम भारत सरकार के काम और राज्य सरकार के काम के आधार पर चुनाव जीतना चाहते हैं।

नितिन गडकरी ने राहुल गांधी के बयान पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के बयान को कांग्रेस ही सीरियसली नहीं लेती है, तो मैं क्या कहूं। वैसे वो इस तरह का बयान देकर कांग्रेस का बहुत नुकसान कर रहे हैं। उनके बयान को मीडिया भी सीरियस नहीं लेती है। उदारीकरण से उनको माफ कर देना चाहिए।