असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) और उनकी पत्नी रिंकी भुयान (Rinki Bhuyan) को कामरूप मेट्रोपॉलिटन के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (Assam court) ने 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान आदर्श आचार संहिता (Model Code of Conduct) के कथित उल्लंघन के लिए तलब किया है। बता दें कि मुख्यमंत्री की पत्नी रिंकी एक असमिया समाचार चैनल की अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक हैं।

ये भी पढ़ें

सरकारी दुकानों से राशन लेने के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव, जानिए नया नियम


कामरूप मेट्रोपॉलिटन (Kamrup Metropolitan) के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एके बरुआ ने एक आदेश में दोनों को 25 फरवरी को अदालत में पेश होने को कहा। मई 2019 में अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी ने सरमा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था, जो पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल (Sarbananda Sonowal) के मंत्रिमंडल में कई विभागों के मंत्री थे। चुनाव अधिकारी में सरमा (Himanta Biswa Sarma) को एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना था। चुनाव विभाग ने 10 अप्रैल 2019 को असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष और महासचिव से शिकायत मिलने के बाद मामला दर्ज किया था।

ये भी पढ़ें


न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा कि दस्तावेजों के अवलोकन पर सरमा (Himanta Biswa Sarma) और उनकी पत्नी के खिलाफ जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 126 (1) (बी) के तहत संज्ञान लिया गया है। बता दें कि चैनल ने 10 अप्रैल 2019 को शाम 7.55 पर वर्तमान मुख्यमंत्री का एक लाइव साक्षात्कार प्रसारित किया था, जो कि 11 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के मतदान के 48 घंटों के भीतर था। बता दें कि रिंकी भुइयां सरमा इस चैनल अब अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं। समन जारी करने से पहले सीजेएम ने माना कि सरमा अब राज्य के मुख्यमंत्री का पद संभालते हैं और कथित अपराध के समय मंत्री के पद पर थे। उन्होंने कहा कि इसलिए, एक सवाल यह उठता है कि क्या मुख्यमंत्री का पद संभालने वाले आरोपी हिमंत बिस्वा सरमा के खिलाफ अपराध का संज्ञान लेने से पहले इस मामले में मंजूरी की आवश्यकता है।