जम्मू कश्मीर के बाद कांग्रेस पार्टी को असम में झटका लगा है। असम में प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एपीसीसी) के महासचिव कमरुल इस्लाम चौधरी ने पार्टी छोड़ दी। अन्य नेताओं की तरह उन्होंने भी राज्य में पिछले कुछ महीनों से दिशाहीन और भ्रमित नेतृत्व का हवाला देते हुए कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से अपना इस्तीफा दिया है।

ये भी पढ़ेंः असम : जल संसाधन विभाग के छह अधिकारी निलंबित, ड्यूटी में लापरवाही के आरोप


चौधरी ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे एक पत्र में अपने इस्तीफे की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों के दौरान एपीसीसी के दिशाहीन और भ्रमित नेतृत्व के कारण असम में कांग्रेस पार्टी की वर्तमान अस्थिरता ने मेरे लिए कांग्रेस के सदस्य के रूप में बने रहने का कोई कारण नहीं छोड़ा है।

ये भी पढ़ेंः गौहाटी उच्च न्यायालय ने पूर्वी असम राष्ट्रीय उद्यान के निकट न्यायिक सर्वेक्षण के दिए आदेश


चौधरी ने यह भी आरोप लगाया कि उन विधायकों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई, जिन्होंने हाल ही में हुए राष्ट्रपति चुनाव के दौरान क्रॉस वोटिंग की थी। उन्होंने पत्र में कहा कि क्रॉस वोटिंग में शामिल विधायकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने से मेरे जैसे हजारों जमीनी कार्यकर्ताओं का मनोबल गिरा है, जिन्होंने सालों तक पार्टी के लिए खून-पसीना दिया है।