असम में कांग्रेस ने अभिनेत्री कंगना रनौत (actress kangana ranaut) के खिलाफ गुरुवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। पार्टी ने महात्मा गांधी एवं स्वतंत्रता आंदोलन (Mahatma Gandhi and the Freedom Movement) के विरोध में कथित तौर पर बयान देने के लिए रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

गुवाहाटी के दिसपुर थाने में दर्ज कराई गई शिकायत में पुलिस से आग्रह किया गया है कि अभिनेत्री के खिलाफ देशद्रोह की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की जाए। शिकायत में दावा किया गया है कि 1947 में भारत को मिली आजादी का उन्होंने अपमान किया। 

बहरहाल, पुलिस ने अभी तक अभिनेत्री के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया है, जिन्हें हाल में पद्म श्री से नवाजा गया था। रनौत ने बयान दिया था कि '1947 में भारत को मिली आजादी भीख' थी। इसके कुछ दिनों बाद 16 नवंबर को उन्होंने दावा किया कि सुभाष चंद्र बोस और भगत सिंह को महात्मा गांधी से समर्थन नहीं मिला और कहा कि दूसरा गाल आगे करने से आपको 'भीख' मिलती है, आजादी नहीं। 

कांग्रेस ने अपनी शिकायत में दावा किया कि यह शहीदों का घोर अपमान है और देश के खिलाफ बयान है। पार्टी ने कहा कि स्वतंत्रता हर भारतीय का जन्मसिद्ध अधिकार है और महात्मा गांधी सहित हजारों शहीदों की कुर्बानी से इसे हासिल किया गया। पार्टी ने आरोप लगाया कि रनौत के बयान ने भारतीयों की भावना आहत की है और असम के साथ ही भारत के स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है। रनौत ने घोषणा की थी कि 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद स्वतंत्रता हासिल हुई।