असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दर्ज कराया है। खबर है कि कामरूप रूरल के CJM कोर्ट में ये मामला गुरुवार को दर्ज कराया गया है। बीते 4 जून को मनीष सिसेदिया ने प्रेस कांफ्रेंस करके हिमंता बिस्व सरमा के खिलाफ पीपीई किट खरीदने में धांधली का आरोप लगाया था। उस समय हिमंता असम के स्वास्थ मंत्री थे।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री उन्नत सड़क निर्माण योजना की बैठक में सीएम हिमंता ने अधिकारियों से की बात

सिसोदिया ने हिमंता बिस्व सरमा पर आरोप लगाया था कि उन्होंने PPE खरीदने का ऑर्डर अपनी पत्नी की कंपनी को दिया था और सरकार ने हिमंता के पत्नी रिनिकी भुइया शरमा से ज्यादा दाम से खरीदा। मनीष सिसोदिया के आरोपों के बाद हिमंता की पत्नी ने भी 100 करोड़ का मानहानि का मामला भी दर्ज कराया है। रिंकी सरमा के वकील पी। नायक ने कहा कि उनके मुवक्किल ने कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी गतिविधियों के तहत पीपीई किट दान के रूप में जमा की।

इस महीने की शुरुआत में असम के मुख्यमंत्री और सिसोदिया के बीच वाकयुद्ध छिड़ गया था, जिसमें सिसोदिया द्वारा कोविड पीपीई किट की खरीद में भ्रष्टाचार के आरोप के बाद मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी दी गई थी। सिसोदिया ने दावा किया कि पीपीई किट के ठेके सरमा की पत्नी से जुड़ी एक कंपनी को दिए गए।

यह भी पढ़ें : AASU ने जलप्रलय के प्रति 'केंद्र की उदासीनता' का किया विरोध, कहा- ‘डबल इंजन वाली सरकार हुई फेल’

सिसोदिया ने एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा था कि असम सरकार ने अन्य कंपनियों से 600 रुपये के लिए पीपीई किट की खरीद की, सरमा ने अपनी पत्नी और बेटे के व्यापारिक भागीदारों की फर्मो को 990 रुपये प्रति पीस के लिए तत्काल आपूर्ति के आदेश दिए।