हाल ही में कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जरिए एक तस्वीर पोस्ट की गई थी जिसमें में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानि RSS के ड्रेस कोड को जलते हुए दिखाया गया था। इस ट्वीट को लेकर जमकर बवाल मचा हुआ है। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस पर चौतरफ वार किया। इस बीच अब इस जंग में असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा भी कूद गए हैं और एक तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर में भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू निक्कर में दिख रहे हैं। कांग्रेस और खासकर राहुल गांधी की आलोचना के लिए मशहूर हिमंता सरमा ने तस्वीर पोस्ट करते हुए कांग्रेस से पूछा है कि क्या इसे भी जला दोगे।

यह भी पढ़े : अब कार की खिड़कियों पर ब्लैक फिल्म और नेट का प्रयोग प्रतिबंधित, दोनों पर लगेगा जुर्माना

हालांकि, इस फोटो में नेहरू RSS की खाकी वर्दी में नहीं बल्कि कांग्रेस के सेवा दल की वर्दी में दिख रहे हैं। शॉर्ट्स में नेहरू की तस्वीरें अक्सर इस झूठे दावे के साथ वायरल होती हैं कि नेहरू ने भगवा खाकी पहनी थी और आरएसएस की एक बैठक में शामिल हुए थे। आपको बता दें कि राहुल गांधी इन दिनों कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा पर हैं। इस बीच कांग्रेस ने सोमवार को आलोचना करते हुए ट्वीट किया, "देश को नफरत के बंधन से मुक्त करने और भाजपा-आरएसएस द्वारा किए गए नुकसान को कम करने के लिए कदम दर कदम हम अपने लक्ष्य तक पहुंचेंगे।"

यह भी पढ़े : Numerology Horoscope 14 September : आज का दिन इन तारीखों में जन्मे लोगों के लिए रहेगा भाग्यशाली

इसके बाद भाजपा ने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा को 'आग लगाओ यात्रा' करार दिया। वहीं, आरएसएस ने कहा कि कांग्रेस नफरत के जरिए लोगों को जोड़ना चाहती है। इससे पहले बीजेपी ने विवादित पादरी फादर जॉर्ज पोन्नैया से मुलाकात के लिए राहुल गांधी पर निशाना साधा था। कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार को पूछा "क्या भाजपा में हर कोई घुंघरू पहनता है? वह केवल राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा में कांग्रेस को मिली अपार सफलता से लोगों का ध्यान हटाना चाहती है।" हिमंत बिस्वा का ट्वीट वायरल हो गया क्योंकि शॉर्ट्स में नेहरू की तस्वीरें कई बार फैक्ट-चेक की जा चुकी हैं।