नई दिल्ली/आईजोल/गुवाहाटी। केंद्र सरकार (central government) पूर्वोत्तर के राज्यों में सीमा विवाद सुलझाने के लिए  सक्रिय है। गुरुवार को असम के सीएम हिमंत बिश्व सरमा (Assam CM Himanta Biswa Sarma) व मिजोरम के सीएम जोरामथंगा (Mizoram CM Zoramthanga) दिल्ली पहुंचे। दोनों ने राजधानी के असम हाउस (Assam House) में साथ में रात्रिभोज किया। दोनों सीएम शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) से मिलेंगे। उम्मीद है कि असम-मिजोरम के बीच सीमा विवाद पर सार्थक चर्चा होगी।

असम के सीएम सरमा ने गुरुवार रात बताया कि जोरामथंगा सात दिन की दिल्ली यात्रा पर आए हैं। इसलिए मैंने उन्हें रात्रिभोज पर आमंत्रित किया। हमने खाना खाया और चर्चा की। कल हम दोनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) से मिलेंगे। आज सिर्फ हमने बातचीत की और डिनर का लुत्फ लिया। 

उधर मिजोरम के सीएम जोरामथंगा ने कहा, 'हम दोनों अच्छे मित्र हैं व भाई जैसे हैं, इसलिए मुझे हिमंत जी ने रात्रि भोज पर बुलाया था। हमने अच्छा वक्त साथ में बिताया। हम उम्मीद करते हैं कि गृहमंत्री शाह से एकसाथ मिलेंगे। हमने दोस्ती और मजबूत करने का प्रयास किया। 

उल्लेखनीय है कि असम व मिजोरम के बीच लंबे समय से सीमा विवाद चल रहा है। कई बार यह हिंसक मोड़ ले चुका है। कुछ समय से गर्माता रहा है। मिजोरम के तीन जिले आइजल, कोलासिब और ममित असम के कछार, हेलाकांडी और करीमगंज जिलों से सटे हैं। इनके बीच 164.4 किलोमीटर लंबी सीमा हैं दोनों राज्यों के बीच लंबे समय से सीमा विवाद चला आ रहा है। 

गत 17 नवंबर को खबर आई थी असम के साथ विवादित सीमा पर मिजोरम ने निर्माण कार्य फिर से शुरू कर दिया है। मिजोरम ने दावा किया है कि हम उसी राह पर चल रहे हैं जो हमारे पड़ोसी राज्य असम ने हमें दिखाई है। इससे दो दिन पहले संयुक्त कार्रवाई समिति (जेपीसी) ने केंद्र और मिजोरम सरकार से अनुरोध किया था कि वह आदेश वापस लिया जाए जिसके तहत असम के साथ सीमा पर निर्माण कार्य बंद करने का निर्देश दिया था।

गुरुवार को दोनों राज्यों के सीएम के एक साथ दिल्ली में होने व शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करने से उम्मीद है कि असम मिजोरम के बीच सीमा विवाद पर सार्थक चर्चा होगी और कोई समझौता हो जाए।