असम में मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) की पत्नी और बेटे से जुड़े कथित भूमि हड़पने के घोटाले (land grabbing scam)ने एक बार फिर से तूल पकड़ लिया है। विपक्ष इस घोटाले पर हिमंता के खिलाफ विरोध करने की तैयारी कर रहा है।

असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी (APCC) के अध्यक्ष भूपेन कुमार बोरा (Bhupen Kumar Borah) ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता 10 जनवरी से 6 फरवरी तक सभी जिलों में न्यायिक जांच की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन करेंगे।
उन्होंने कहा कि “हमारी सभी जिला समितियों ने इस अवधि में कार्यक्रमों की एक श्रृंखला तैयार की है और हमारे सभी वरिष्ठ नेता, जिनमें सांसद और विधायक शामिल हैं, उनमें भाग लेंगे। हम न्यायिक जांच की मांग को लेकर राज्यपाल (governor) को अग्रेषित करने के लिए डीसी (deputy commissioners) को ज्ञापन सौंपेंगे ”।
भूपेन (Bhupen Borah) ने कहा कि अगर सरकार छह फरवरी तक जांच पैनल का गठन नहीं करती है तो कांग्रेस (Congress) हर निर्वाचन क्षेत्र में अपना विरोध तेज करेगी और इसे राष्ट्रीय स्तर पर ले जाएगी। हम इस मुद्दे को संसद में भी उठाएंगे।

नेता ने कहा कि हम इस अभूतपूर्व भूमि घोटाले (land scam)का संसद के अंदर और बाहर विरोध करेंगे। हम इसे राष्ट्रपति भवन और जंतर मंतर (दिल्ली में) ले जाएंगे। हम चुप नहीं बैठेंगे। सरकार को जांच शुरू करनी चाहिए, या फिर बड़े पैमाने पर लोकतांत्रिक आंदोलन (democratic movement) की तैयारी करनी चाहिए।"
उल्लेखनिय है कि मुख्यमंत्री सरमा (Himanta) की पत्नी रिंकी भुइयां सरमा और बेटे नंदिल बिस्वा सरमा की एक कंपनी ने कथित तौर पर गुवाहाटी के बाहरी इलाके में सरकारी जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया है।