केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को सीमा विवाद को लेकर चल रहे गतिरोध को हल करने के लिए असम और मिजोरम के मुख्यमंत्रियों के साथ अलग-अलग टेलीफोन पर बातचीत की। बताते चले कि पड़ोसी राज्यों के निवासियों के बीच झड़पों के बाद शनिवार से सीमावर्ती इलाकों में तनाव बढ़ गया है। दोनों राज्यों के बीच जमीनी स्तर की वार्ता मंगलवार को विफल रही। मिजोरम ने कहा था कि अगर असम में आपूर्ति करने वाले ट्रकों की नाकाबंदी को कम नहीं किया गया तो वह विदेश से आवश्यक आयात करेगा। वहीं असम ने मांग की थी कि मिजोरम पहले अपने सेना को उस क्षेत्र से वापस ले जाए। 

वहीं मिजोरम ने केंद्र सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद असम सीमा से अपनी सेना को वापस लेने का फैसला लिया है। सूत्रों के अनुसार, शाह ने तनाव को कम करने के लिए राज्य सरकारों द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में पूछा और कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने असम-मिजोरम सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए उपाय शुरू कर दिए हैं। 

असम के मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि शाह ने तनाव कम करने के लिए असम सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी ली और कहा कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने अंतरराज्यीय सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए कदम उठाए हैं। सोनोवाल ने केन्द्रीय मंत्री को उनकी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के साथ ही दोनों राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच हुई चर्चा के बारे में जानकारी दी।

वहीं केन्द्रीय गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वोत्तर मामले के प्रभारी) सत्येन्द्र गर्ग के हस्तक्षेप के बाद पड़ोसी राज्यों असम और मिजोरम ने अंतरराज्यीय सीमा पर जिन क्षेत्रों में अशांति फैली है वहां शांति और सामान्य हालात बहाल करने के लिए बुधवार को बैठक भी की।