नई दिल्ली। महाराष्ट्र में शिव सेना में बगावत से राज्य में मचे राजनीतिक उथल-पुथल के बीच विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस मंगलवार को अपनी पार्टी के नेताओं से मिलने दिल्ली पहुंचे। उन्होंने दिल्ली में पार्टी के अध्यक्ष जयप्रकाश नड्डा से उनके निवास पर मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार यह मुलाकात करीब एक घंटा चली जिसमें महाराष्ट्र की राजनीतिक घटनाओं के बीच पार्टी के आगे के कदमों के बारे में चर्चा की गयी। 

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के निजी सचिव पर दलित महिला के साथ रेप का केस दर्ज


सूत्रों के अनुसार राजधानी में फडनवीस गृह मंत्री अमित शाह सहित पार्टी के अन्य नेताओं के साथ मुलकात कर सकते हैं। शिवसेना के 16 बागी विधायकों को विधान सभा की सदस्यता से अयोग्य करने के उपाध्यक्ष के नोटिस पर आगे की कार्रवाई 11 जुलाई तक रोकने के न्यायालय के निर्देश के बाद शिवसेना के बागी विधायकों का मनोबल ऊंचा हो गया है। इन विधायकों को उपाध्यक्ष ने मंगलवार शाम तक नोटिस का जवाब देने का समय दिया था। 

न्यायालय से मोहलत मिलने के बाद अटकलें हैं कि उद्धव सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस शीघ्र आ सकता है अथवा बागी विधायकों के साथ मिल कर विपक्ष अपने बहुमत का दावा कर सकता है। फडनवीस ने न्यायालय के सोमवार के निर्णय के बाद मुंबई में महाराष्ट्र भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की थी। भाजपा खेमे का दबाव है कि कुल 288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधान सभा में उसके साथ कुल 170 विधायक हैं। भाजपा के स्वयं के 106 सदस्य हैं तथा पार्टी समर्थित निर्दलियों समेत उसके 113 सदस्य हैं। 

ये भी पढ़ेंः AAP का दावाः गुजरात भाजपा टीम करेगी दिल्ली की स्कूलों-मोहल्ला क्लीनिक का दौरा, पार्टी ने किया जोरदार खंडन


गुवाहाटी के एक होटल में जमे बागीगुट के साथ श्री एकनाथ शिंदे ने आज ही कहा कि उनके साथ 50 विधायक हैं। उन्होंने कहा कि वह मुंबई लौटने वाले हैं। इस बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बागी विधायकों से मुंबई लौट कर बातचीत करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सीधे बातचीत करने से कोई रास्ता निकल सकता है।