गुवाहाटी। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा (Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma) पूर्व के कांग्रेस सरकार (congress government) पर तंज कसते हुए सोमवार को बताया कि राज्य में नेताओं और महत्वपूर्ण हस्तियों की सुरक्षा में तैनात 762 निजी सुरक्षा अधिकारियों (PSO) को हाल-फिलहाल में वापस बुला लिया गया है। बता दें कि सरमा ने कांग्रेस के वीआईपी कलचर (congress Vip culture) को लेकर बयान दिया था कि इसे खत्म किया जाना चाहिए। जिसके बाद से कई भाजपा नेता अपना पीएसओ हटा रहे हैं या कम कर रहे है। 

इस मामले में गुवाहाटी में पत्रकारों से बातचीत में सरमा ने कहा कि खतरे की समीक्षा के लिए गठित सुरक्षा सलाहकार समिति की सलाह पर विभिन्न राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं और महत्वपूर्ण हस्तियों ने बिना आपत्ति जताए अपने-अपने पीएसओ लौटा दिए। सरमा ने बताया कि आने वाले दिनों में लगभग दो हजार PSO को वापस बुलाए जाने की संभावना है और ‘इससे दो नई बटालिन के गठन में मदद मिलेगी।’

गौर हो कि सरमा ने एक जनवरी को हुई कैबिनेट की बैठक के बाद बताया था कि उनकी सरकार ने राज्य में पीएसओ की तैनाती के लिए एक नई नीति लाने का निर्णय लिया है और पीएसओ की सेवाएं अब ‘स्टेटस सिंबल’ नहीं रहेंगी। सुरक्षा सलाहकार समिति पीएसओ के आवंटन की समीक्षा करेगी, सिवाय उन लोगों के जो संवैधानिक पदों पर तैनात हैं या फिर जिन्हें सुरक्षा की जरूरत है।

बता दें कि असम पुलिस की 4240 सुरक्षाकर्मियों से लैस चार बटालियन पहले PSO के रूप में सेवाएं दे रही थीं, जिनमें से आधे नेताओं की सुरक्षा में तैनात थे।