गुवाहाटी। गुवाहाटी में मंगलवार को हुए भूस्खलन में कम से कम चार लोगों की मौत हो गई क्योंकि सोमवार रात से लगातार हो रही बारिश से शहर में बाढ़ आ गई। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। गुवाहाटी के उपायुक्त पल्लव गोपाल झा ने कहा कि शहर के बोरागांव इलाके के निजारापार में एक पहाड़ी पर भारी भूस्खलन के कारण चार निर्माण श्रमिकों की मौत हो गई।

अधिकारी ने कहा, 'लगातार बारिश के कारण हुई भारी भूस्खलन की वजह से मंगलवार तड़के एक घर गिर गया, जहां पीडि़त सो रहे थे।' चार लोगों की मौत के साथ ही इस साल प्री-मानसून और मानसून बाढ़ और भूस्खलन में मरने वालों की संख्या असम में 42 हो गई।

ये भी पढ़ेंः मोदी सरकार का सबसे बड़ा ऐलान, अगले डेढ़ साल में 10 लाख लोगों को मिलेगी सरकारी नौकरी

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अधिकारियों ने कहा कि वाणिज्यिक शहर और बाहरी इलाके में छह अन्य स्थानों से भूस्खलन की सूचना मिली है, जिसमें खारघुली, हेंगेराबारी, कामाख्या, सिलपुखुरी और चांदमारी कॉलोनी शामिल हैं। यहां अभी तक किसी के भी हताहत होने की कोई खबर नहीं है, लेकिन कई संपत्तियों को नुकसान पहुंचा है।

सोमवार रात से लगातार हो रही भारी बारिश से शहर की सभी प्रमुख सड़कों और बस्तियों में घुटनों तक और कमर तक पानी भर गया। स्कूली बसों सहित वाहन सड़कों पर पानी भर जाने के कारण रुक गए, जिससे भयंकर जाम लग गया।

शहर के सैकड़ों घरों में भी बाढ़ का पानी घुस गया है। बाढ़ का पानी चिडिय़ाघर रोड, आर.जी. बरुआ रोड, जीएस रोड, नबीन नगर, अनिल नगर, हाटीगांव, गणेशगुड़ी, हेडयतपुर, दिसपुर में विधायक क्वार्टर, लचित नगर, तरुण नगर, ज्योतिकुची, घोरमारा, वीआईपी रोड, राजगढ़ रोड, जोराबट और छतरीबाड़ी में घुस चुका है।

ये भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश में भाजपा का एक बार फिर धमाका, 13 में से निर्विरोध जीतीं इतनी सीटें


कामरूप मेट्रोपॉलिटन जिला प्रशासन ने एक एडवाइजरी जारी कर नागरिकों से अनुरोध किया है कि वे घरों से बाहर न निकलें जब तक कि बिल्कुल आवश्यक न हो। राष्ट्रीय और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल स्वयंसेवकों के साथ संकटग्रस्त लोगों तक पहुंचे और बाढ़ प्रभावित नागरिकों की मदद करने का प्रयास किया। भारी बारिश के कारण गुवाहाटी के कई इलाकों में घंटों तक बिजली नहीं रही।

गुवाहाटी में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने सोमवार को असम और मेघालय के लिए 'रेड अलर्ट' जारी किया और गुरुवार तक 'अत्यधिक भारी वर्षा' की भविष्यवाणी की। असम और मेघालय के लिए मंगलवार, गुरुवार और शुक्रवार के लिए रेड अलर्ट के अलावा आईएमडी ने अरुणाचल प्रदेश के लिए 17 जून तक ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।