असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने कहा कि राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के कदम के तहत 2016 से अब तक 229 सरकारी अधिकारियों को भ्रष्टाचार के आरोपों में गिरफ्तार किया गया है। गुवाहाटी के खानापारा में कॉलेज ऑफ वेटरनरी साइंस में गणतंत्र दिवस के मुख्य समारोह को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार मुक्त असम के वादे को पूरा करने के लिए कदम उठा रही है और सिंडिकेट्स और अवैध गतिविधियों के खिलाफ कार्रवाई की है।

उन्होंने कहा कि प्रशासन में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए विभिन्न सेवाओं और लगभग सभी वित्तीय लेनदेन प्रदान करने के लिए विभिन्न ऑनलाइन और डिजिटल मोड पेश किए गए हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने 2016 में राज्य की सत्ता में आने के बाद कल्याणकारी योजनाओं में कई घोटालों का पर्दाफाश किया है। उन्होंने कहा, सरकार ने मनरेगा, राष्ट्रीय वृद्धा पेंशन योजना, समाज कल्याण विभाग, खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग के पूरक पोषण कार्यक्रम में लगभग 14 लाख फर्जी लाभार्थियों का पता लगाया और उनका नाम लाभार्थियों के सूची से हटाया।

राज्यपाल ने कहा कि प्रमुख आतंकवादी समूहों के साथ सुरक्षा परि²श्य में काफी सुधार हुआ है, जो या तो आत्मसमर्पण कर रहे हैं या बातचीत की प्रक्रिया में संलग्न हैं। सीमा प्रबंधन का उल्लेख करते हुए, राज्यपाल ने कहा कि असम के धुबरी जिले में बांग्लादेश के साथ नदी की सीमा के 48.11 किलोमीटर लंबे हिस्से को व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली के तहत इलेक्ट्रॉनिक नियंत्रित उपकरणों और अन्य तरीकों का उपयोग करके सील किया गया है।