असम में मुख्यमंत्री राहत कोष से धोखाधड़ी करके पैसे निकालने का मामला सामने आया है। धोखाधड़ी करके पैसे निकालने के आरोप में मुख्यमंत्री की विशेष विजिलेंस सेल की टीम ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया।बताया जा रहा कि सभी आरोपी उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखते हैं। कुछ असामान्य लेनदेन का पता चलने के बाद इस मामले में जांच की गई तो पूरी बात खुलकर सामने आई। आरोपियों पर चेक पर मुख्यमंत्री के फर्जी साइन करके पैसों की हेराफेरी करने का आरोप है।

असम के मुख्यमंत्री की स्पेशल विजिलेंस सेल की टीम ने उत्तर प्रदेश से पांच आरोपियों मोहम्मद आरिफ, मोहम्मदा आसिफ, लालजी, सर्वेश राव और रविंद्र कमार को गिरफ्तार किया है। जिन्होंने धोखाधड़ी करके मुख्यमंत्री राहत कोष से पैसे निकाले थे. आरोप है कि इन लोगों ने मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के फर्जी हस्ताक्षर किए और राहत कोष से पैसे निकाले।

पुलिस ने कहा कि पांचों आरोपियों को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और बलिया से गिरफ्तार किया गया है और सोमवार को गुवाहटी लाया गया है। सीएम की विजिलेंस सेल को 15 दिन के अंदर इस मामले को सुझलाने का निर्देश दिया गया है. यह एक गुप्त ऑपरेशन था।

सीएम विजिलेंस सेल की पुलिस अधीक्षक रोज़ी कलिता ने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय को मुख्यमंत्री राहत कोष से कुछ असामान्य लेनदेन पर पता चला था, जिसकी जानकारी मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल दी गई। मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने तुरंत विजिलेंस को इस मामले में जांच शुरू करने के निर्देश दिए। जिसके बाद आरोपियों को उत्तर प्रदेश से गिरफ्तार किया गया है।