असम के शिक्षा मंत्री हेमंत विश्व सरमा ने शनिवार को कहा कि कक्षा 12 और स्नातक के अंतिम वर्ष की कक्षाएं 15 सितंबर से अनौपचारिक और प्रायोगिक रूप से शुरू की जाएंगी। 

 यहां एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि अनौपचारिक कक्षाएं 30 सितंबर तक चलेंगी और इस बीच यदि किसी छात्र में संक्रमण की पुष्टि होती है तो कक्षाएं बंद कर दी जाएंगी। 

सरमा ने कहा, “प्रधानाध्यापक छात्रों के छोटे छोटे समूह बनाएंगे जो अनौपचारिक कक्षाओं में आकर शिक्षकों से पढ़ेंगे।” 

उन्होंने कहा, “प्राथमिक या माध्यमिक-प्राथमिक स्कूलों में बच्चे अभी सप्ताह में एक बार मध्याह्न भोजन लेने आ रहे हैं। वे 15 सितंबर से सप्ताह में दो बार आएंगे और शिक्षक उन्हें पाठ्य सामग्री के साथ प्रश्न पत्र देंगे जो बच्चों को अगले सप्ताह जमा करना होगा।” 

उन्होंने कहा कि शिक्षकों को छात्रों के सामने उत्तर पुस्तिका जांचनी होगी और अगले सप्ताह का कार्य देना होगा। सरमा ने कहा, “शिक्षकों को एक सितंबर से आना होगा और वे अपने संस्थान को सेनिटाइज करने का काम का निरीक्षण करेंगे। हम इसके लिए धन उपलब्ध कराने की व्यवस्था कर रहे हैं और अगले कुछ दिनों में पैसा भेज दिया जाएगा।” 

मंत्री ने कहा कि हालांकि उन स्कूलों और कालेजों को नहीं खोला जाएगा, वर्तमान में जिनका प्रयोग पृथक-वास केंद्र के रूप में किया जा रहा है।