अरुणाचल प्रदेश के तिरप जिले के चिंगन गांव में ग्रेनेड विस्फोट में तीन नाबालिग घायल हो गए। विस्फोट उस समय हुआ जब बच्चों ने पॉलीथिन में लिपटे ग्रेनेड को खिलौना समझ लिया और उसके साथ खेलना शुरू कर दिया। 

ये भी पढ़ेंः अरुणाचल प्रदेश में कोरोना का एक नया मामला, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 64,482 हो गई


धमाके में 10 वर्षीय लड़के को गंभीर चोटें आईं और उसे डिब्रूगढ़ के असम मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (एएमसीएच) में भर्ती कराया गया। AMCH अधीक्षक इंद्र चुटिया के अनुसार, उसकी हालत में सुधार हो रहा है और उन्हें गहन चिकित्सा इकाई में निगरानी में रखा गया है। अन्य दो बच्चों को मामूली चोटें आईं और उन्हें खोंसा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना के तुरंत बाद तिरप एसपी कार्डक रीबा ने मौके का दौरा किया और जांच शुरू कर दी है। जिले में तैनात असम राइफल्स की टुकड़ी ने भी मामले की जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ेंः अरुणाचल प्रदेश में फिर वापस आया COVID-19, यहां सामने आया नया मामला


सूत्रों ने कहा कि जिस गांव में ग्रेनेड विस्फोट हुआ था, उसका उपयोग एनएससीएन के विभिन्न गुटों सहित पूर्वोत्तर के उग्रवादी समूहों द्वारा म्यांमार के जंगलों में अपने शिविरों तक पहुंचने के लिए अक्सर मार्ग के रूप में इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि मार्ग से गुजरने के दौरान उग्रवादियों का ग्रेनेड जमीन पर गिरा होगा। असम राइफल्स के एक अधिकारी ने कहा कि एनएससीएन (आईएम) के 12 से 15 कैडरों का एक समूह 6 मार्च को नागालैंड से इलाके में घुस आया था, जिसके बाद  असम राइफल्स और तिरप पुलिस के जवानों ने उन्हें बाहर निकालने के लिए एक ऑपरेशन शुरू किया था। उस दिन उग्रवादियों के साथ गोलीबारी भी हुई थी। हालांकि, कोई हताहत नहीं हुआ। ऐसे में हमें संदेह है कि भागने के दौरान उग्रवादी से ग्रेनेड गिरा होगा।