हमारी पृथ्वी अनगिनत रहस्यों से भरी पड़ी है। फिर चाहे वह भूतों के रहस्य हों या फिर परजीवी एलियंस के। भारत में भी ऐसे ही तमाम रहस्य मौजूद हैं जिनसे आज तक पर्दा नहीं उठा। आज हम आपको भारत (India) के एक ऐसे ही रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो एक झील से जुड़ा है। इस झील के बारे में कहा जाता है कि यहां जो कोई गया वह कभी वापस लौटकर नहीं आया। 

ये झील हमारे देश के अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में स्थित है। इसके रहस्य के चलते ही इस झील को नाम दिया गया है 'लेक ऑफ नो रिटर्न' यानी एक ऐसी झील जहां से वापस नहीं आया जा सकता। इस झील के रहस्यों के बारे में पता लगाने की कई बार कोशिश की गई लेकिन कोई सकारात्मक नतीजा नहीं निकला और ये रहस्य आज भी बरकरार है।

यह झील अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में भारत और म्यांमार की सीमा (India and Myanmar border) पर स्थित है। इस झील ने कई रहस्यमयी घटनाओं को अपने आप में समेटे हुए है। इस झील के बारे में कई रहस्यमयी कहानियां सामने आई हैं। ‘लेक ऑफ नो रिटर्न’ के अलावा इस झील को 'नावांग यांग' झील भी कहा जाता है। बताया जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिकी विमान के पायलटों ने आसमान से जब इस झील को देखा तो उन्हें लगा कि ये कोई समतल जमीन है। इसी के चलते उन्होंने विमान को यहां लैंड करने का मन बना लिया। लेकिन जैसे ही उन्होंने विमान को यहां लैंड किया विमान पायलटों समेत रहस्यमय तरीके से लापता हो गया।