अरुणाचल प्रदेश में पिछले पांच दिनों से जारी बारिश के बीच भूस्खलन की घटनाओं में सात लोगों की मौत हो गई और एक व्यक्ति लापता है। अधिकारियों ने बताया कि पापुम पारे जिले में गुरुवार देर रात भूस्खलन की घटना में आठ महीने की बच्ची समेत एक परिवार के चार सदस्य जिंदा दब गए। 

पापुम पारे के उपायुक्त पीगे लीगू ने बताया कि भूस्खलन की घटना गुरुवार और शुक्रवार की रात करीब दो बजकर 30 मिनट पर हुई और मकान, इसमें सो रहे सभी लोग दब गए। पुलिस, एनडीआरएफ और स्थानीय लोगों की मदद से शवों को मलबे से बाहर निकाला गया।

 

अरुणाचल में हुई इन घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख व्यक्त किया। उन्होंने कामना की कि जल्द से जल्द घायल लोग सही हों। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि जो लोग प्रभावित हुए हैं, उनकी हर संभव मदद की जाएगी।

लीगू ने बताया कि मृतकों की पहचान टाना मार्टिन (22) और उसकी पत्नी याबुंग लिंदुम और बेटी टाना यासुम और मार्टिन के भाई टाना जॉन के रूप में हुई है। पुलिस अधीक्षक (राजधानी) टुम्मे आमो ने बताया कि एक अन्य घटना में लिंगालया मंदिर के पास मोदिरिजो में दिन में साढ़े 11 बजे भूखस्खलन के चलते एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई और एक अन्य लापता हो गया। आमो ने बताया कि इस घटना के समय इस घर का मालिक कामदाक टाडो अपने पड़ोसी के यहां था। उसकी पत्नी और दो बेटियां जिंदा दब गईं। आठ साल का बच्चा लोकाम रोना घर से भागा और वह बच गया। लोकाम गांधी नामक एक लड़की को मलबे से निकाला गया।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस और राज्य आपदा मोचन बल के कर्मियों ने तीन शव मलबे से निकाले और चौथे लापता व्यक्ति की तलाश की जा रही है। मृतकों की पहचान कामदुक कगौंग (30) कामदक करना (नौ) और कामदाक जीता (आठ) के रूप में हुई है। लोकाम मिनू (20) को तलाशा जा रहा है। राज्य में इसके साथ ही मॉनसून से संबंधित घटनाओं में मरनेवालों की संख्या बढ़कर 14 हो गई है। मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया और प्रत्येक मृतक के परिवारवालों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि तत्काल देने की घोषणा की। उन्होंने आपदा संभावित क्षेत्र में रह रहे लोगों को सावधानी बरतने और सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार राज्य में अगले कुछ दिनों में भारी बारिश होगी, इसलिए लोगों सभी एहतियाती कदम उठाएं। उन्होंने जिला प्रशासन और आपदा प्रबंधन विभाग को निर्देश दिया है कि वे जान-माल की बड़ी क्षति से बचने के लिए हालात पर नजर बनाए रखें। पिछले पांच दिनों से लगातार बारिश की वजह से भूस्खलन की घटनाएं हुई हैं और बाढ़ आई है, जिससे राज्य में सड़कों और घरों को नुकसान पहुंचा है और निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं। राज्य में कई स्थानों से भूस्खलन की खबरें आई हैं।