अरुणाचल प्रदेश में याक पालन को बढ़ावा देने के लिए नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (NABARD) ने एक क्रेडिट सपोर्ट प्लान को मंजूरी दे दी है। पहल को मंजूरी मिलने के साथ, चरवाहों से याक पालन के लिए ऋण सुरक्षित करने और अपनी आजीविका को बढ़ावा देने की उम्मीद की जाती है।

बता दें कि यह योजना अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग जिले के दिरांग में याक पर राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र (NRCY) द्वारा विकसित की गई है। पिछले कुछ वर्षों में, अरुणाचल प्रदेश में याक की आबादी में काफी गिरावट देखी गई है।


दूध और मांस के माध्यम से पोषण सुरक्षा को मजबूत करने में अपनी विविध भूमिकाओं के कारण याक हिमालय क्षेत्र के सबसे बेशकीमती जानवरों में से एक है। रिपोर्टों के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में 10,000 से अधिक परिवार दुर्गम क्षेत्रों में परिवहन का एक साधन उपलब्ध कराने के अलावा याक के दूध उत्पाद, ऊनी कपड़े, मांस बेचकर अपनी आजीविका कमाते हैं।