ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के संदिग्ध एनएससीएन (के-वाईए) (NSCN (K-YA)) उग्रवादियों ने तीन सड़क निर्माण श्रमिकों को बंदूक की नोक पर अगवा कर लिया और उन्हें पड़ोसी नागालैंड ले गए। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।

पुलिस ने कहा कि तीन बंदियों में से एक को बाद में रिहा कर दिया गया और दो अन्य एनएससीएन (के-वाईए) (NSCN (K-YA)) के ठिकाने में रह गए। सुरक्षाबलों ने उग्रवादियों को पकड़ने और बंदियों को छुड़ाने के लिए छापेमारी शुरू कर दी है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बंगफुआ वांगपन, रामाशीष महतो और जेसीबी संचालक हिरेन कोंच, लोंगडिंग जिले में पुमाओ-लंगखो रोड के निर्माण में लगे हुए थे और निर्माण स्थल के पास एक शिविर में ठहरे थे, जहां से मंगलवार देर रात उग्रवादियों ने उनका अपहरण कर लिया।

अन्य मजदूरों को अपहरण की सूचना पुलिस को देने के लिए 5-6 किमी पैदल चलना पड़ा। अरुणाचल प्रदेश के लंगखाओ गांव के निवासी बंगफुआ वांगपन को बाद में रिहा कर दिया गया।

बताद दें कि दो अन्य - हिरेन कोंच और रामाशीष महतो - पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी के हैं। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचित किया कि एनएससीएन (के-वाईए) के कार्यकर्ता पिछले कई महीनों से व्यापारियों से पैसे वसूल रहे हैं। पहले उग्रवादियों ने अरुणाचल प्रदेश में निर्माण श्रमिकों सहित कई लोगों का अपहरण कर लिया था, लेकिन बाद में छापामारों ने जबरन वसूली के बाद अपहृत लोगों को रिहा कर दिया।