आए दिन किसी न किसी फिल्म की शूटिंग लोकप्रिय जगहों पर होती रहती है और वहां के स्थानीय निवासी उन सेलिब्रिटी से इतने प्रभावित हो जाते हैं कि उस जगह का नाम किसी न किसी अभिनेता या अभिनेत्री पर रख दिया जाता है। ऐसी ही एक झील है जिसे माधुरी दीक्षित झील के नाम से बुलाया जाता है। जी हां, आपने बिलकुल सही सुना, माधुरी दीक्षित एक बार यहां कोयला फिल्म के गाने की शूटिंग के लिए आईं थी और तब से इस झील का नाम माधुरी दीक्षित झील रख दिया गया। चलिए आपको आगे बताते हैं यह झील कहां स्थित है और यह गाना यहीं क्यों फिल्माया गया। 

इस झील का निर्माण 1973 के भूकंप के परिणामस्वरूप हुआ था। झील की सड़क ज़ेमिथांग से शुरू होती है। सर्दियों के दौरान, सांगेसर झील जम जाती है, साथ ही बर्फीली सतह पर चमकता सूरज झील की खूबसूरती में चार चांद लगा देता है। यह निकटतम शहर तवांग से लगभग 30 किमी दूर स्थित है। झील समुद्र तल से 3,708 मीटर की ऊंचाई पर है। पर्यटक इस झील तक पहुंचने के लिए तवांग से वाहन किराए पर ले सकते हैं। झील के पास एक फूड स्टॉल है, जिसके साथ आपको पार्किंग बेस की सुविधा भी मिल जाएगी।

90 के दशक में, शाहरुख खान और माधुरी दीक्षित की बॉलीवुड फिल्म कोयला का एक गाना 'तनहाई-तनहाई दोनों को पास ले आई' झील के पास फिल्माया गया था। गाना तो मशहूर हुआ ही, साथ ही झील ने भी कई तारीफें बटोरी। तब से ही इस झील का नाम माधुरी दीक्षित के नाम से रख दिया गया। यह नाम लोगों को हमेशा आकर्षित करता है, और यही वजह है कि इसकी खूबसूरती को देखने के लिए यहां कई सैलानियों का तांता लगा रहता है।

झील के लिए जाने वाला रास्ता बेहद उबड़-खाबड़ वाला है। इस यात्रा में आपको 50 से अधिक टेडी-मेडी सड़कें मिलेंगी। इस झील के दर्शन के लिए तवांग स्थित जिला आयुक्त (डीसी) कार्यालय से विशेष अनुमति लेनी पड़ती है। किसी भी विदेशी को झील वाली जगह पर जाने की अनुमति नहीं है। तवांग से सांगेसर झील तक पहुंचने में करीब ढाई से साढ़े तीन घंटे का समय लगता है। पर्यटक रास्ते में ड्राइविंग के दौरान बर्फ से ढके पहाड़, ग्लेशियर, जल निकाय आदि का भी मजा ले सकते हैं।

सांगेसर या माधुरी दीक्षित झील की यात्रा करते समय पर्याप्त मात्रा में पीने का पानी साथ में जरूर लेकर जाएं। अपनी यात्रा सुबह 7:30 या 8:00 बजे से शुरू करें। भारी भीड़ से बचने के लिए जुलाई के आसपास इस झील को देखने का प्लान बनाएं। वहां झील के पास एक सेना शिविर है, जहां पर्यटकों को बहुत सस्ती कीमत पर दस्ताने, जूते, जैकेट आदि मिलते हैं। साथ ही वहां भारतीय सेना द्वारा जलपान की भी व्यवस्था की गई है। आप आराम से बैठकर चाय, कॉफी या मैगी का मजा ले सकते हैं।