ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण हुए भीषण भूस्खलन से गेरुकामुख में सुबनसिरी लोअर हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट (SLHP) की सुरक्षा दीवार क्षतिग्रस्त हो गई है। सूत्रों ने कहा कि क्षति के कारण परियोजना की इनटेक टनल को बंद कर दिया गया है। एक अधिकारी जानकारी देते हुए कहा, 'अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण जल स्तर बढ़ने के बाद सुरक्षा दीवार गिर गई। इसके बाद साइट पर काम कर रहे मजदूरों को वहां से तुरंत निकाला गया। वहां चल रहा काम बंद कर दिया गया है और इसे फिर से शुरू करने में समय लगेगा।'

यह भी पढ़े :  सोनिया गांधी से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव, बोले - बीजेपी को हटाना है, देश को बचाना है

सूत्रों ने कहा कि लखीमपुर जिले में सुबनसिरी नदी के निचले इलाकों में बाढ़ से बचने के लिए नेशनल हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर कॉरपोरेशन (NHPC) की ओर से पनबिजली परियोजना की पांच सुरंगों में से दो को बंद कर दिया गया है। अरुणाचल प्रदेश के 2,000 मेगावाट के एसएलएचपी बांध के बिजली प्रोजेक्ट से जुड़े इस नए घटनाक्रम के पीछे प्रदेश के ऊपरी क्षेत्रों में पिछले कुछ दिनों से हो रही लगातार बारिश प्रमुख कारण है। 

एक अधिकारी ने कहा, 'इससे ज्यादा असर नहीं पड़ेगा क्योंकि यह एक अस्थायी ढांचा था। निचले इलाकों में बाढ़ नहीं आएगी। दो साल पहले भी इसी तरह की घटना परियोजना स्थल पर हुई थी।' भारी बारिश के कारण भूस्खलन हुआ है, मुख्य बांध के निर्माण के ऊपर बाढ़ का पानी बह रहा है, जिससे निचले इलाकों में तबाही मची है। निर्माण स्थल पर लगे श्रमिक इस स्थिति में सबसे अधिक असुरक्षित हैं क्योंकि एक और भूस्खलन का मतलब पूरे क्षेत्र के लिए आपदा होगा।

यह भी पढ़े :  सोनिया गांधी से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव, बोले - बीजेपी को हटाना है, देश को बचाना है


सुबनसिरी के जल स्तर में वृद्धि के कारण एसएलएचपी बांध से इसके नीचे के प्रवाह वाले क्षेत्रों में संभावित बाढ़ और कटाव को लेकर नदी के किनारे रहने वाले लोगों को चिंतित कर दिया है। इससे पहले जून में निर्माणाधीन एसएलएचपी में भूस्खलन से एक निर्माण श्रमिक की मौत हो गई थी और दो अन्य घायल हो गए थे।