ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश में 21 जून को 45 स्थानों पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया गया। केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रीजीजू ने चीन सीमा पर स्थित अंजाव जिले के डोंग में आयोजित योग समारोह की अगुवाई की। डोंग भारत का सबसे पूर्वी गांव है, जहां भारत, चीन और म्यांमा की सीमायें मिलती हैं। देश में सबसे पहले सूर्योदय डोंग में ही होता है, इसलिये इस गांव को ‘भारत के उगते सूरज की भूमि’ के नाम से भी जाना जाता है।

यह भी पढ़ें : बाढ़ प्रभावित लोगों से राहत शिविर में मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा, कहा- जनता का दुख कम करने का हर संभव प्रयास

रीजीजू ने लोगों से स्वस्थ रहने और स्वास्थ जीवन के लिये योग अपनाने की अपील की। उन्होंने देश भर में 75 प्रमुख स्थानों पर योग दिवस के मौके पर समारोह आयोजित करने के विचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया। आयुष मंत्रालय ने देश के 75 प्रमुख स्थानों पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस समारोह का आयोजन किया। इस साल योग दिवस का विषय ‘‘मानवता के लिये योग’’ रखा गया था।

यह भी पढ़ें : दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ दर्ज हुआ 100 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा

प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) डॉ बी डी मिश्रा ने यहां राजभवन में आयोजित योग समारोह की अगुवाई की। इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि योग कई हजार साल पुरानी भारतीय स्वास्थ्य पद्धति है और प्राचीनकाल में बुद्धिजीवियों और संतों द्वारा शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक उत्थान के लिए इसका अभ्यास किया जाता था।

उन्होंने कहा कि योग तन और मन के बीच सामंजस्य स्थापित करता है और इसे करने वाले को यह मन की शांति, अच्छे स्वास्थ्य और सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाने में सक्षम बनाता है। प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने एक अन्य सीमावर्ती जिले तवांग में आयोजित योग समारोह में हिस्सा लिया । इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ-साथ बौद्ध भिक्षुओं, आईटीबीपी के जवानों और छात्रों ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘मेरे दिन की शानदार शुरूआत हुयी, क्योंकि मैंने तवांग मठ में योग समारोह में हिस्सा लिया। मेरे साथ छात्रों, भिक्षुओं और आईटीबीपी के जवानों तथा अरुणाचल के मेरे भाइयों एवं बहनों ने हिस्सा लिया ।’’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘स्वस्थ जीवन के लिये मैं सभी से योग का अभ्यास करने का आग्रह करता हूं।’’