अरुणाचल प्रदेश के लोंगडिंग जिले के पुमाओ सर्कल (Pumao Circle of Longding District) पर हुए अपहरण (Kidnapping in Arunachal) के मामले में अभी तक पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है। बता दें कि 31 जनवरी को असम के हिरेन कोंच (31) और बिहार के रामाशीष महतो (35) का अपहरण कर लिया गया था। पुलिस को शक है कि इस वारदात को एनएससीएन (के-वाईए) (NSCN (K-YA)) गुट ने अंदाज दिया है। 

बता दें कि दोनों चालक अभी भी संगठन के कब्ज में हैं। पुलिस को संदेह है कि दोनों को नागालैंड (Nagaland) के मोन जिले के जाहसिया गांव की ओर ले जाया गया। इस बीच, सूत्रों ने बताया कि एनएससीएन (के-वाईए) (NSCN (K-YA)) ने दोनों की रिहाई के लिए 4 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी है। लॉन्गडिंग के डीएसपी बी तांगजांग ने बताया कि उनकी रिहाई के लिए बातचीत चल रही है।

उन्होंने बताया कि हम हिरेन कोंच और रामाशीष महतो (Ramashish Mahato) दोनों के परिवारों के भी संपर्क में हैं और हम उन्हें हर घटनाक्रम की पूरी जानकारी दे रहे हैं। 31 जनवरी की रात को एनएससीएन (के-वाईए) के संदिग्ध गुर्गों ने लोंगडिंग (Kidnapping in Longding District) के बनफुआ वांगपन के साथ दोनों का अपहरण कर लिया, जब वे लोंगडिंग जिले के लोंगखाव और पुमाओ गांवों के बीच पीएमजीएसवाई सडक़ निर्माण कार्य में लगे हुए थे। अगले दिन वांगपन को रिहा कर दिया गया और तब से वह अपने पैतृक गांव लोंगखाव लौट आया है।