अरुणाचल प्रदेश में ईटानगर के पास निर्माणाधीन और बहुप्रतीक्षित ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे का नाम "डोनी पोलो हवाई अड्डे" के रूप में रखे जाने की संभावना है।अरुणाचल प्रदेश सरकार ने केंद्र को ईटानगर के पास ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे को "डोनी पोलो हवाई अड्डे" के रूप में नामित करने का सुझाव दिया है। अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को पत्र लिखकर हवाई अड्डे के नाम का सुझाव दिया है।

यह भी पढ़े : विमान को ऑटोपायलट मोड में डालकर पायलट ने महिला से बनाए संबंध, वायरल हुआ वीडियो


खांडू ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को लिखे पत्र में कहा, राज्य की राजधानी में एकमात्र हवाई अड्डा होने के नाते ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे का नाम सूर्य (डोनी) और चंद्रमा (पोलो) यानी डोनी पोलो हवाई अड्डे पर लोगों की सदियों पुरानी स्वदेशी श्रद्धा का जश्न मनाने के लिए उपयुक्त होगा।

यह भी पढ़े : बढ़ती महंगाई से जनता को राहत: खाने का तेल भी होगा सस्‍ता, सरकार ने उठाया बड़ा कदम


अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू ने कहा, "मैं हवाई अड्डे का नाम डोनी पोलो हवाई अड्डे के नाम पर रखने के प्रस्ताव पर आपसे विचार करने का अनुरोध करना चाहता हूं।" अरुणाचल प्रदेश, जिसे होलोंगी हवाई अड्डे के रूप में भी जाना जाता है इस साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर चालू होने की पूरी संभावना है।

यह भी पढ़े : 25 May Lucky Zodiac Signs: आज की ये हैं 5 लकी राशियां, जानिए कैसा रहेगा बुधवार का दिन


320 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा एक बार पूरा हो जाने के बाद पहले चरण में एयरबस A321 जैसे संकीर्ण-बॉडी जेट को समायोजित करने में सक्षम होगा। होलोंगी हवाईअड्डा देश के लिए रणनीतिक प्रासंगिकता रखेगा और इसमें विभिन्न स्थिरता विशेषताएं भी होंगी।

पहले चरण में हवाईअड्डे के पास एक 2,300 मीटर रनवे-उन्मुख पूर्व-पश्चिम होगा, जो संकीर्ण-शरीर वाले विमानों की सेवा के लिए होगा और वाइड-बॉडी विमानों को उतारने के लिए 2,800 मीटर तक बढ़ाया जा सकता है।