पूर्वी सियांग जिले के कोमोलीघाट में सियांग नदी का जल स्तर लगातार बारिश के कारण बढ़ रहा है, जिससे असम के धेमाजी जिले के कई गांव जलमग्न हो गए हैं। नदी के बढ़ते पानी ने धेमाजी के कम से कम 53 गांवों में पानी भर दिया, जिससे 30,000 से अधिक लोग प्रभावित हुए।

इस बीच, भारी बारिश के कारण पासीघाट-पांगिन मार्ग पर कई जगहों पर भूस्खलन हो रहा है, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी हो रही है। सड़क के रख-रखाव का जिम्मा सौंपे गए निर्माण एजेंसी के अधिकारियों के मुताबिक भारी और लगातार बारिश के कारण प्वाइंट 0 किमी से 16 किमी प्वाइंट तक सड़क के किनारे अक्सर भूस्खलन हो रहा है।


यह भी पढ़ें- सिमना विधायक बृष्केतु देबबर्मा का इस्तीफे पर अब 9 सितंबर को होगी सुनवाई



इसके अलावा कोलमा गांव में सड़क का एक हिस्सा डिकरोंग नदी में शुक्रवार को उफान में आ गया, जिससे यह इलाका निवासियों के लिए जोखिम भरा हो गया है। स्थानीय निवासी ने बताया कि सुबह छह बजे से सात बजे के बीच सड़क के एक बड़े हिस्से में नदी का पानी भर गया. हालांकि बाद में पानी कम हुआ, लेकिन इससे लोगों में दहशत का माहौल है। यह भी बताया कि ऐसी बाढ़ हर साल आती है।


यह भी पढ़ें- असम बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए कई संस्थान और कंपनियों ने राहत कोष में दिए 2 लाख से लेकर 1 करोड़ तक की राशि


एक अन्य निवासी नांगबिया पाचा ने कहा कि नदी पहले सड़क से पांच मीटर दूर थी लेकिन अब सड़क पर पानी भर गया है उन्होने कहा कि "निर्माण एजेंसी को इस तरह के उपद्रव से बचने के लिए सड़क का निर्माण जमीनी स्तर से थोड़ा ऊपर करना चाहिए था "। लोअर कोलमा 400 लोगों का घर है। इसके निवासियों ने बाढ़ से बचाव के लिए एक उचित रिटेनिंग वॉल की मांग की है।