झारखंड के पलामू में अवैध शराब भारी मात्रा में पकड़ा गया है। नावाजयपुर थानाक्षेत्र के चूड़ादोहर में अरुणाचल प्रदेश से सस्ता शराब लाकर ब्रांडेड कंपनियों का नकली शराब तैयार कर बड़ा मुनाफा कमाया जा रहा था। इस मामले में उत्पाद विभाग ने महुलिया के रहने वाले सुनील प्रसाद को गिरफ्तार किया है। उत्पाद विभाग को अवैध शराब बेचे जाने की जानकारी मिली थी।

Facebook अप्रैल 2023 से बंद करने जा रही यह सर्विस, पब्लिशर्स को होगा बड़ा नुकसान

एसआई संजय कुमार के नेतृत्व में गुरुवार की रात छापेमारी की गई। पुलिस टीम चूड़ादोहर पंहुची तो देखा कि एक बोलेरो वाहन बिना लाइट जलाए चल रहा था जिसे दो मोटरसाइकिल पर सवार लोग स्कॉट कर रहे थे।

इस बोलरो की तलाशी लेने पर उसमें रखा नकली इंपीरियल ब्लू, रॉयल स्टैग,स्टर्लिंग रिजर्व और मैकडोवेल शराब पुलिस के हाथ लगा। इसके बाद वहीं पास में ही एक घर में छापेमारी की गई। भारी मात्रा में विभिन्न ब्रांडेड शराब के छह हजार पीस खाली बोतल मिला। साथ ही इसपर चिपकाने के लिए रैपर,स्टीकर और नकली सरकारी होलोग्राम भी जब्त किया गया।इस शराब को बिहार व पलामू के ग्रामीण इलाकों में बेचा जाता था गिरफ्तार अपराधी पहले शराब भट्टी में काम करता था। वहीं उसकी जान पहचान शराब का अवैध धंधा करने वालों से हुई और इस काम में लग गया।

त्रिपुरा सरकार ने ब्रू शरणार्थियों से आठ दिसंबर तक मतदाता सूची में नाम दर्ज करवाने की अपील की


उत्पाद अधीक्षक विमला लकड़ा ने बताया कि अरुणाचल प्रदेश का स्टीकर लगा 750 एमएल गोवा किक शराब 420 बोतल व 960 बोतल नकली ब्रांडेड शराब जब्त किया गया।जब्त शराब 238.32 लीटर है। इस अवैध कारोबार के तार रांची और लोहरदगा जिला से जुड़ा है। स्टीकर, लेबल,बोतल दिल्ली और बंगाल से मंगाया जाता है।