ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश की दिबांग घाटी में रविवार देर शाम तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप शाम करीब 6.27 बजे आया, जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 4.4 मापी गई है। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने कहा कि भूकंप की गहराई सतह से 10 किमी नीचे थी।

ये भी पढ़ेंः गरीबी से हो चुका था परेशान, फिर किस्मत ने मारी पलटी और एक झटके में जीते 25 करोड़ रुपए

जानकारी के अनुसार, दो दिन पहले ही लदाख में भूकंप आया था। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने शुक्रवार को कहा था कि, लेह के अलची से 189 किलोमीटर उत्तर में रिक्टर पैमाने पर 4.8 तीव्रता का भूकंप आया। वहीं, इसके पहले, पिछले हफ्ते जम्मू-कश्मीर में कटरा से 62 किमी पूर्व-उत्तर-पूर्व में रिक्टर पैमाने पर 3.5 तीव्रता का भूकंप आया था। 

ताइवान में रविवार को भूकंप का तेज झटका महसूस किया गया, जिससे तीन मंजिला एक इमारत ध्वस्त हो गई और मलबे में कई लोग दब गए। भूकंप की वजह से एक स्टेशन पर यात्री ट्रेन भी पटरी से उतर गई।  रविवार को आए भूकंप की तीव्रता 6.8 मापी गई, जो शनिवार से इस द्वीपीय देश के दक्षिण पूर्वी हिस्सों में महसूस किए जा रहे दर्जनों झटकों में सबसे शक्तिशाली है। इसी इलाके में शनिवार शाम को 6.4 तीव्रता का भूकंप का झटका महसूस किया गया था।

यह भी पढ़े : Aaj ka rashifal September 19 : आज इन राशि वालों को मिलेगा शुभ समाचार, ये लोगों को रहेगी संतान की चिंता


ताइवान के केंद्रीय मौसम ब्यूरो ने बताया कि ऐसा प्रतीत होता है कि सबसे अधिक नुकसान भूकंप के केंद्र के उत्तरी क्षेत्र में हुआ है। ब्यूरो ने बताया कि भूकंप का केंद्र चिशांग शहर के पास सतह से महज सात किलोमीटर नीचे था।