अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू (arunachal pradesh cm pema khandu) मुश्किलों में फंसते नजर आ रहे हैं। दरअसल ऑल न्याशी यूथ एसोसिएशन (ANYA) ने मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा 36 घंटों के बंद (Bandh in Arunachal Pradesh) का आह्वान किया है। इस बीच पुलिस ने अरुणाचल प्रदेश में 100 से ज्यादा लोगों को एहतियातन हिरासत में ले लिया है ।


मुख्यमंत्री पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

संगठन ने मुख्यमंत्री (cm pema khandu) पर 2,000 करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया और सरकार से पिछले साल 10 दिसंबर को सौंपे गए एक ज्ञापन में 15 दिनों के भीतर स्पष्टीकरण देने को कहा है। वहीं सीएम ने आरोपों से इनकार किया और कहा कि वे राजनीति से प्रेरित थे। अधिकारियों के अनुसार बंद से राज्य की राजधानी और आसपास के इलाकों ईटानगर (Bandh in Arunachal Pradesh) में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। एहतियात के तौर पर प्रशासन ने कानून-व्यवस्था को बाधित करने के लिए लोगों को जुटाने में सोशल मीडिया के इस्तेमाल को रोकने के लिए बुधवार शाम से अगले 48 घंटों के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया था। स्थानीय अधिकारियों ने भी हड़ताल को अवैध घोषित कर दिया।

बंद के अधिकांश आयोजक गिरफ्तार

ईटानगर राजधानी क्षेत्र के उपायुक्त तालो पोटोम ने कहा कि स्थिति शांतिपूर्ण है। किसी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। बंद (Bandh in Arunachal Pradesh) के अधिकांश आयोजकों को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें एहतियातन हिरासत में रखा गया। सीधे तौर पर शामिल पाए गए लोगों पर अरुणाचल प्रदेश गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 2014 की धारा 3 के तहत आरोप लगाया गया था। इनमें बंद का आह्वान करने वाले संगठन की जिला समिति के अध्यक्ष और इसके केंद्रीय कार्यकारी निकाय के महासचिव शामिल हैं। उन्हें 12 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस दौरान धारा 144 का उल्लंघन करन के आरोप में 107 लोगों पर मामला दर्ज किया गया। हालांकि उन्हें बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया। पुलिस अधीक्षक जिमी चिराम (Superintendent of Police Jimmy Chiram) ने कहा कि पुलिस हिरासत के ताजा ब्योरे और जमीनी स्थिति की गणना कर रही है और कहा कि अंतिम इनपुट की घोषणा शुक्रवार शाम पांच बजे के बाद की जाएगी।