अरूणाचल प्रदेश में कोरोना वायरस का विस्फोट हो चुका है क्योंकि यहां पर 41 नए मामले सामने आए हैं। इसी के साथ ही राज्य में इस महामारी के संक्रमण के मामलों की संख्या 650 पर पहुंच गई।


स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक सबसे अधिक 18 नए मामले कैपिटल कॉम्प्लेक्स से सामने आए। इसके बाद लोअर सियांग से 10, पापुम परे से छह, लोअर दिबांग वैली से तीन और पश्चिम कामेंग तथा लोअर सुबनसिरी जिलों से दो-दो मामले सामने आए।
राज्य के निगरानी अधिकारी एल जम्पा ने बताया कि लोअर सियांग और लोअर दिबांग वैली जिलों में मामले पृथकवास केंद्रों से सामने आए। उन्होंने बताया कि पश्चिम कामेंग और लोअर सुबनसिरी जिलों में पृथकवास केंद्रों में एक-एक शख्स संक्रमित पाया गया।
उन्होंने बताया कि एक को छोड़कर सभी नए मरीजों में बीमारी के लक्षण नहीं हैं और उन्हें कोविड देखभाल केंद्रों में भर्ती कराया गया है। राज्य में सबसे अधिक 216 मामले कैपिटल कॉम्प्लेक्स से सामने आए हैं। इसके बाद चांगलांग में 37, नमसई में 27, पूर्वी सियांग में 21, लोअर सुबनसिरी और लोअर सियांग में 14-14 मामले सामने आए।जम्पा ने बताया कि 99 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद शनिवार को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। उन्होंने बताया कि उन्हें दो हफ्तों तक घर पर पृथक-वास करने और अपने स्वास्थ्य पर नजर रखने की सलाह दी गई है।
कैपिटल कॉम्प्लेक्स प्रशासन और पापुम परे जिलों के अधिकारियों ने मामले बढ़ने के मद्देनजर कई इलाकों तथा इमारतों को निषिद्ध क्षेत्र घोषित किया है।पापुम परे के उपायुक्त पिगे लिगु ने दोइमुख उपमंडल में चिपटुआ गांव को निषिद्ध क्षेत्र घोषित किया है। वहां छह लोग संक्रमित पाए गए हैं।शनिवार को जारी एक आदेश के अनुसार गांववासियों को इलाके से बाहर जाने की अनुमति नहीं है और किसी भी अनधिकृत व्यक्ति को अधिकारियों की अनुमति के बिना प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।कैपिटल कॉम्प्लेक्स के उपायुक्त कोमकार दुलोम ने नहार्लगुन में सात इमारतों और ईटानगर में एक इमारत को 28 दिनों के लिए निषिद्ध क्षेत्र घोषित किया है। आदेश के अनुसार इमारतों में घेराबंदी की जाएगी और लोगों की आवाजाही को नियंत्रित किया जाएगा।अरुणाचल प्रदेश में अभी 373 मरीज संक्रमित हैं जबकि 274 लोग स्वस्थ हो चुके हैं और तीन लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि राज्य में अभी तक 38,042 नमूनों की जांच की गई है।राज्य में एक जुलाई के बाद से कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं। पिछले 19 दिनों में संक्रमण के 459 मामले सामने आए हैं। यह पूर्वोत्तर राज्य 23 मई तक संक्रमण से मुक्त था। देश के अन्य हिस्सों से लोगों के लौटने के बाद से यहां कोविड-19 के मामले बढ़े।