भारत में कश्मीर के अलावा उत्तरपूर्व में स्थित सिक्किम भी ऐसा राज्य है जिसे धरती का स्वर्ग माना जाता है। गर्मियों में छुट्टियों का भरपूर मजा लेने के लिए यह जगह किसी जन्नत से कम नहीं है।


सिक्किम के खूबसूरत और प्राकृतिक नजारों का मजा लेने के लिए हर साल बहुत से पर्यटक आते हैं। यहां आप खूबसूरत जगहों के साथ-साथ बहुत से मंदिर और फूलों के बगीचे देख सकते है। इस शहर के पुराने रीति-रिवाज आज के लाइफस्टाइल के हिसाब से किए जाते है, जिसे देखकर आप भी दंग रह जाएंगे। इसके अलावा यहां पर घूमने के लिए बहुत से गांव, नदियां और पहाड़ियां है, जिनका आप मजा ले सकते हैं।

 

समिति लेक
गर्मियों में ठंडक का मजा लेने के लिए आपको सिक्किम की समिति लेक में जरूर जाना चाहिए। पहाड़ों से घिरी इस झील में आप बोटिंग का मजा ले सकते हैं।


कुपक लेक
सिक्किम की यह पहली ऐसी झील है, जो हमेशा बर्फ से जमी रहती है। इसलिए इसे फ्रोजन लेक भी कहा जाता है। गर्मी के मौसम में भी यह जगह आपको तरोताजा कर देगी।


युमथांग वैली
वैली ऑफ फ्लावर्स के नाम से भी जानी जाने वाली इस जगह में आप रंग-बिरंगे अलग-अलग प्रजाति के फूलों का मजा ले सकते हैं। इस घाटी के फूलों का मजा आप गर्मियों में ही ले सकते हैं क्योंकि सर्दियों में बर्फबारी के कारण इसे बंद कर दिया जाता है।


जीरो प्‍वाइंट
सिक्किम के इस जीरो प्वाइंट से आप पूरे शहर का खूबसूरत नजारा देख सकते हैं। इसके अलावा यहां से आप खूबसूरत सनसेट देखने का मजा भी ले सकते है।


लाचुंग
पहाड़ियों, नदियों और झीलों के साथ-साथ यहां के गांव भी बहुत खूबसूरत है। लाचुंग नदी के किनारे बसे इस गांव की खूबसूरती देखने के लोग स्पेशल आते हैं। यहां पर आप अलग-अलग रीति-रीति रिवाज को मॉर्डन तरीके से होते हुए भी देख सकते हैं।


जॉरेथांग
यह गांव सिक्किम के साउथ डिस्ट्रिक में रंगीन नदी के किनारे बसा हुआ, जोकि बेदह खूबसूरत है। इस गांव के बाजार में आप बहुत-सी खूबसूरत चीजें देख सकते हैं। इसगांव की खूबसूरती और हरे-भरे खेत हर किसी का मन मोह लेते हैं।


कंचनजंगा पहाड़ी
सिक्किम की ये पहाड़ी दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची चोटी है। इसकी ऊंचाई 28156  फुट है। सूरज की सबसे पहली किरण इस पहाड़ी पर पड़ती है। आप चाहें तो इस पहाड़ी पर ट्रेकिंग भी कर सकते है। इसकी चोटी को सिक्किम के दो गावों से देखा जा सकता है।